ajmer Dargah Deewan, Syed Zainul Abedin Ali stay on his statement

मैं ही हूं और मरने तक रहूंगा दरगाह दीवान, मेरे बाद बड़ा बेटा होगा उत्तराधिकारी : सैयद जेनुअल ओबेद्दीन

Published Date-05-Apr-2017 08:06:09 PM,Updated Date-05-Apr-2017, Written by- Priyank Sharma

अजमेर। अजमेर में सूफी संत ख्वाजा मोईनुद्दीन हसन चिश्ती की दरगाह के दीवान जेनुअल ओबेद्दीन ने कहा है कि कानून वे ही दरगाह दीवान है और उनकी मौत तक वे ही दरगाह दीवान रहेंगे। उन्होंने कहा कि उनके बाद उनका बड़ा पुत्र सैयद नसीरुद्दीन चिश्ती ही उत्तराधिकारी बनेगा। अपने निवास पर  आयोजि प्रेसवर्ता में उन्होंने कहा कि वे हमेशा कट्टरपंथियो के निशाने पर रहे हैं। उन्होंने कहा कि देश में आतंकवादी घटनाओं की उन्होंने हमेशा निंदा की है। इसके अलावा समाज में रूढ़िवादी परम्पराओं पर भी बेबाकी से बयान दिए है। फिर वो गोवंश के कत्ल का मामला हो या तीन तलाक का मामला। 


दरगाह दीवान जेनुअल ओबेद्दीन ने कहा कि वे आज भी अपने बयानों पर कायम है। उन्होंने यह भी कहा कि कटरपंथियों ने उनके छोटे भाई को उनके खिलाफ खड़ा कर दिया है। इधर, दरगाह दीवान जेनुअल ओबेद्दीन के साहेबजादे सैयद नसीरुद्दीन का कहना है कि दीवान को कोई नियुक्त नहीं कर सकता और न ही कोई हटा सकता है। 


गौरतलब है कि उर्स की आखरी खानखाही की रस्म के बाद ही दरगाह दीवान जेनुअल ओबेदीन ने मुसलमानों को बीफ नहीं खाने की अपील की थी। साथ ही तीन तलाक के मामले पर अपना बयान दिया था। इसके बाद उनके ही छोटे भाई ने उन पर ऊंगली उठाई थी। दीवान की गद्दी को लेकर इसके पारिवारिक विवाद उभर कर सामने आ गया। इस विवाद को लेकर ही नित नए मोड़ आ रहे हैं।


दरगाह दीवान के छोटे भाई एस ए अलीमी ने तीन तलाक के मामले में अपने बड़े भाई जेनुअल ओबेदीन पर कुरान शरीफ की खिलाफत का आरोप लगाया था और जेनुअल ओबेद्दीन को मुसलमान नहीं मानते हुए खुद को दरगाह दीवान घोषित कर दिया था।

सम्बंधित खबर भी पढ़ें :

अजमेर दरगाह दीवान ने की मुस्लिमों से अपील, कहा छोड़ देना चाहिए बीफ खाना

बीफ पर बैन और तीन तलाक के बयान से मुश्किल में आए अजमेर दरगाह दीवान

 

Ajmer Rajasthan Dargah Sarif Ajmer Dargah Dargah Deewan Syed Zainul Abedin Ali Beef Teen Talak

Recommendation