मोहब्बत और दुआएं लेकर पहुंचा पाकिस्तानी जत्था, ख़्वाजा की जमीन पर पहुंचते ही झलके आंखो से जज्बात

Published Date 2017/04/01 11:03, Written by- FirstIndia Correspondent

अजमेर| अजमेर में सूफी संत ख़्वाजा गरीब नवाज के सालाना उर्स के लिए पाकिस्तान जायरीन का जत्था अजमेर पहुंच गया है। अटारी से दिल्ली और फिर अजमेर विशेष ट्रेन से यह पाक जत्था अलसुबह अजमेर पहुंचा। स्पेशल ट्रेन आने से पहले ही सुरक्षा एजेंसियों ने रेलवे स्टेशन को खाली करवा दिया। पूरे परिसर को छावनी बना दिया गया, जैसे ही ट्रेन अजमेर रेलवे स्टेशन पर पहुंची तब सुरक्षा एजेंसियों ने पाक जायरीन की सुरक्षा बढ़ा दी। हर पाक जायरीन की पड़ताल और तस्दीक की गई। करीब 402 पाक जायरीन अजमेर आए है। ट्रेन से उतारते ही ख़्वाजा की सर जमीन को कई पाक जायरीन ने चूम लिया और अपना सर झुकाया। 

 

जायरीन की आंखो से जज्बात बह निकले। कई पाक जायरीन पहले आ चुके है और कई पहली दफा ख़्वाजा गरीब नवाज की दरगाह की जियारत करेंगे। पाक जायरीन में जबरदस्त उत्साह देखा गया। अपने मुल्क, अवाम और खुद के लिए दुआए लेकर अजमेर आए पाक जायरीन भारतीय लोगो की मेहमाननवाजी से गदगद हो गए। पाक जायरीन का कहना था कि सफर में उनका बेहद ख्याल रखा गया। दिल्ली में जामा मज्जिद में भी उन्हें नमाज अदा करने का मौका मिला। पाक जायरीन के रहने खाने पीने की प्रशासन ने विशेष व्यवस्था की है। 

 

चूड़ी बाजार स्थित सेन्ट्रल गर्ल्स स्कूल में उन्हें ठहराया गया है। साथ ही उनकी सुरक्षा के भी पुख्ता इंतजाम किये गए है। पाक जायरीन कुल की रस्म तक अजमेर ठहरेंगे। इस दौरान पाकिस्तान हुकूमत और आवाम की ओर से भी जत्था चादर पेश करेगा। ऐसा पहली बार हुआ है जब पाक जत्थे के साथ कोई लीडर नहीं आया। पाक दूतावास से दो अधिकारी जत्थे के साथ है जो प्रशासन के साथ राफ्ता बनाये रखेंगे। कई पाक जायरीन ख़्वाजा गरीब नवाज के लिए अपनी अकीदत के नजराने लेकर आए है। इनमे खासकर खूबसूरत ताज आकर्षण का केंद्र रहा है|

 

Pakistani, Ajmer, Dargah, Urs Festival, Urs Fair, Rajasthan, Pakistan, Ajmer Sharif Dargah 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

Stories You May be Interested in


Most Related Stories


-------Advertisement--------



-------Advertisement--------