diffrence betwwen rich and poor in India most

भारत में अमीर गरीब के बीच की गहराई विश्व में सबसे ज्यादा : घनश्याम तिवाड़ी

Published Date-25-Dec-2016 07:42:48 PM,Updated Date-25-Dec-2016, Written by- FirstIndia Correspondent

बांसवाड़ा। दीनदयाल वाहिनी के प्रदेश अध्यक्ष घनश्याम तिवाड़ी ने रविवार को बांसवाड़ा में सभा को संबोधित करते हुए कहा कि लोकतंत्र को 70 साल पूरे होने के बावजूद भी लोग रोटी, कपड़ा और मकान की मांगे उठा रहे है। साथ ही उन्होंने आर्थिक न्याय की बात करते हुए कहा कि भारत दुनिया की 5वीं बड़ी अर्थव्यवस्था बन गया है पर भारतीयों का नंबर 183वां है।  

 

तिवाड़ी ने कहा कि दीनदयाल उपाध्याय ने कहा था भारत के लिये पूंजीवादी व्यवस्था ठीक नहीं है। जब तक दूर दराज में बसी ढ़ाणी में रहने वाले व्यक्ति को भी उतनी सुविधा न मिले जितनी की दिल्ली में रहने वाले व्यक्ति को मिलती है, तब तक बड़ी अर्थव्यवस्था बनने का लाभ नहीं है। तिवाड़ी ने कहा कि राजस्थान में यदि सरकार चाहे तो आप सब लोगों को घर, कारखानों और खेतों में बिजली मुफ्त ही नहीं, इसे बनाने के लिये पैसा भी दे सकती है। 

 

उन्होंने स्पष्ट किया कि हमारे राज्य में 360 में से 300 दिन सुर्य निकलता है, जिससे सोलर एनर्जी बनती है। अगर सोलर एनर्जी के प्लांट सरकार की मदद से घरों और खेतों में लगा दिये जाएं तो प्रदेश का किसान खुद उर्जा निर्यातक बन जायेगा। ये बिजली स्वातंत्र्य है। सरकार ने अंबानी अडानी से 40 हजार मेगावॉट का समझौता किया है। तिवाड़ी ने किसानों के हित में मांग करते हुए कहा कि अडानी और अंबानी के साथ किये इस सौदे को रद्द कर किसानों को इस समझौता को प्रत्यक्ष रूप से जोड़ा जाना चाहिए।

 

 

सांगानेर विधायक घनश्याम तिवाड़ी ने अपने लोकसंपर्क अभियान के बारे में बताते हुए कहा कि वे लोकसंपर्क अभियान को फरवरी तक जारी रखेंगे और फिर विधानसभा में प्रदेश की सारी समस्याओं को विधानसभा में उठायेंगे। यदि वहां पर आमजन व किसानों के हित में फैसले नहीं लिये गये तो आजादी के आंदोलन से भी बड़ा आर्थिक व उर्जा स्वातंत्र्य के लिये आंदोलन किया जायेगा। 

 

दीनदयाल वाहिनी का सपना तब तक पूरा नहीं होगा जब तक कि प्रत्येक भारतीय भी 183वें स्थान से उठकर 5वें स्थान पर नहीं पहुंच जाता। उन्होंने आह्वान करते हुए कहा कि जब सामाजिक समरसता, आर्थिक न्याय और बिजली स्वातंत्र्य की प्राप्ति के आंदोलन का जब शंखनाद होगा तो सभी को अपने घरों से बाहर निकल कर साथा आना होगा। 

 

 

Banswara, Rajasthan, Deenadayaal VaahineeGhanshyam Tiwari

 

 

 

 

Recommendation