farmers are suffering over paperwork on the name of repairing in mahi canal

माही नहर में मरम्मत के नाम पर खानापूर्ति, किसानों को भुगतना पड़ रहा खामियाजा

Published Date-15-Dec-2016 03:48:34 PM,Updated Date-15-Dec-2016, Written by- FirstIndia Correspondent

घाटोल (बांसवाड़ा)। माही डेम में मरम्मत के नाम पर खानापूर्ति की कारवाई किए जाने से इसका खामियाजा क्षेत्र के किसानों को भुगतना पड़ रहा है। गौरतलब है कि 2 दिन ही पूर्व नहर की मरम्मत की गई थी, जिसके बाद इसके निरीक्षण के लिए पानी छोड़े जाने के बाद ही इसने जवाब दे दिया और मरम्मत के बाद एक बार फिर से नहर क्षतिग्रस्त हो गई, जिसे दुरूस्त किए जाने के कारण नहर में जल प्रवाह को बंद कर दिया गया। 


विगत 15 दिनों से माही की नहर में जल प्रवाह नहीं होने से कई हजारों हैक्टेयर कृषि भूमि सिंचाई से वंचित हो रही है, जिसके कारण फसलें सूखने के कगार पर पहुंच चुकी है।उपखंड के ढरमा गांव में 7 दिन पूर्व नहर क्षेत्र को माही विभाग ने मंगलवार को दुरुस्त करवाया था, लेकिन मरमत कार्य में लापरवाही बरतने से पिल्लर का हिस्सा फिर टूट गया। इसके कारण माही की नहरों में जल प्रवाह को बंद कर दिया गया।


ऐसे में पिछले करीब 15 दिनों से फसलों के लिए पानी की राह देख रहे किसानों की आंखें भी अब थकने लगी है और खेतों में खड़ी फसलें भी चौपट होने लगी है। इस कारण से किसानों को फसलों की चिंता सताने लगी है।

 

Banswara Rajasthan Mahi Dame Canal Farmers Crop

Recommendation