feeling like Kashmir and also pain as Kashmiris

अहसास कश्मीर का और दर्द भी कश्मीरियों जैसा

Published Date-01-Aug-2016 06:30:20 PM,Updated Date-01-Aug-2016, Written by- FirstIndia Correspondent

बांसवाड़ा। 'दिल की बात जुबां पर आई...' ये जुमला राजस्थान सरकार के मंत्री समूह के बांसवाड़ा दौरे के तहत रविवार को पूरी तरह चरितार्थ हो गया। एक तरफ मंत्री समूह को कश्मीर जैसा अहसास हो रहा था, तो वहीं दूसरी तरफ कश्मीरियों जैसा दर्द भी कार्यकर्ताओं मन में उबाले खा रहा था।

 
पूर्व केबिनेट मंत्री महेन्द्रजीत सिंह मालवीया पर कईं बार आरोपों की झड़ी लगा चुके और गत सप्ताह से साजिशों व षड़यंत्रों से तहत आरोपों से घिरे जीतमल खांट ने आज न केवल अपने तीखे तेवर दिखाए बल्कि मालवीया को खुली चुनौती भी दी कि वे चाहे तो सीआईडी-सीबी जैसी किसी भी खुफिया एजेन्सी से उनके तीन बार के विधायकी कार्यकाल के कार्यों की जांच करा लें, लेकिन वे खुद भी अपने गिरेबां में झांक लें और सच जान लें कि भ्रष्टाचार उन्होंने किया है या जीतमल खांट ने।


खांट ने कहा भ्रष्टाचार के सारे रिकॉर्ड कांग्रेस शासन में मंत्री रहते हुए मालवीया ने तोड़ दिए। गांधीवाद के आदर्शों का ढिंढोरा पीटने वाले मालवीया ने ग्रामदानी गांवों की जमीन को भी नहीं छोड़ा। 51 बीघा ग्रामदानी गांव की जमीन को अपने नाम करवाने के लिए घोटाले का खेल खेला। साजिशपूर्वक आवासीय छात्रावास बनवाने के लिए पहले तो 51 बीघा जमीन को ग्रामसभा में श्रीसरकार को समर्पित कराया, बाद में इस जमीन पर 14 करोड़ की लागत से जनजाती आश्रम छात्रावास भवन भी बनवाया।

 
उन्होंने कहा कि, कुछ समय तक विद्यार्थी यहां रहे भी, लेकिन बाद में भ्रष्टाचार का खेल खेलते हुए जमीन सहित छात्रावास भवन अपने नाम करवा लिया। वर्तमान में सरकारी छात्रावास भवन पूर्व मंत्री मालवीया के नाम दर्ज जमीन पर खड़ा है। राजस्थान के इतिहास में इससे बड़ा भ्रष्टाचार नहीं हुआ। खांट ने कहा कि कल तक वह अकेले खड़े थे, लेकिन आज कार्यकर्ताओं की फौज भी उनके साथ खड़ी है।


उन्होंने कहा कि उनके खिलाफ लगातार षड़यंत्र और साजिशों के ताने-बाजे बुने जा रहे थे, लेकिन उन्होंने अपनी बात अपने घर में पहले रखने का मानस बनाया। सम्मेलन को संबोधित करते हुए चिकित्सा मंत्री राजेन्द्र सिंह राठौड़ ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी देश की तस्वीर और तकदीर दोनों बदलना चाहते हैं। एक साधारण परिवार से निकले और चाय बेचने वाले मोदी ने आज जितनी यात्राएं विदेशों से की है, उन यात्राओं से एक बार फिर विश्व में भारत का मान बढ़ रहा है।


मंत्री अमराराम, श्रम मंत्री सुरेन्द्रपाल टीटी, उद्योग मंत्री गजेन्द्र सिंह ने भी संबोधित किया। सम्मेलन में पूर्व मंत्री भवानी जोशी, विधायक धनसिंह रावत, नवनीतलाल निनामा, भीमाभाई, हकरू मईड़ा, कुशलगढ़ के करणी सिंह, प्रधान लक्ष्मण, जिला परिषद् सदस्य गोविन्द सिंह राव, युवा नेता मुकेश रावत, पार्टी जिलाध्यक्ष एडवोकेट मनोहर पटेल, पूर्व जिलाध्यक्ष ओम पालीवाल सहित चुनिन्दा नेताओं को मंच पर स्थान दिया गया।

 

Banswara Jeetmal Khant Mahendra Jeet Singh Malviya Rajendra Rathore

Recommendation