13 minor girls free from cracker factory in bharatpur

बाल कल्याण समिति और पुलिस की कड़ी कार्रवाई, पटाखा फैक्ट्री से 13 नाबालिग लड़कियों को कराया मुक्त

Published Date-07-Mar-2017 04:21:48 PM,Updated Date-07-Mar-2017, Written by- FirstIndia Correspondent

भरतपुर| भरतपुर में बाल कल्याण समिति और पुलिस ने संयुक्त कार्रवाई करते हुए चिकसाना थाने के गांव नोंह में पटाखा फैक्ट्री में बालश्रम करती हुई 13 नाबालिक बालिकाओं को मुक्त कराया है, जो फैक्ट्री के अंदर फुलझड़ी बनाने का काम कर रही थी| सीडब्लूसी, चाइल्ड लाइन, मानव तस्करी यूनिट और पुलिस की इस संयुक्त कार्यवाही से फैक्ट्री में हड़कंप मच गया। 

 

फैक्ट्री मालिक ने कार्यवाही में अवरोध पैदा करने की कोशिश की, लेकिन पुलिस प्रशासन की मौजूदगी के चलते वह सफल नहीं हो सके और पुलिस की मौजूदगी में ही सीडब्लूसी की टीम सभी नाबालिक बालिकाओं को रेस्क्यू करके बाल कल्याण समिति लेकर आ गई है, जहां पर बालिकाओं को नारी निकेतन में भेज दिया है। 

 

फैक्ट्री मालिक के खिलाफ सीडब्ल्यूसी चेयरमैन सरोज लोहिया ने बालश्रम अधिनियम के तहत मामला दर्ज कराया सीडब्ल्यूसी चेयरमैन लोहिया ने बताया कि सीडब्ल्यूसी को काफी समय से शिकायत मिल रही थी जहां नोह् गांव स्थित जय भारत पटाखा फैक्ट्री में नाबालिक बच्चों से बाल श्रम कराया जा रहा है, जिस पर यह कार्यवाही की गई है। प्रथम दृष्टया सभी बालिकाएं नाबालिक प्रतीत हो रही है और सभी का मेडिकल जांच कराने के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी|

 

Child Welfare Committee, Police, Minor Girl, Cracker Factory, Bharatpur, Rajasthan  

Click below to see slide

Recommendation