Reduced interest rates on PF accounts

कर्मचारियों के लिए बुरी खबर : पीएफ खातों पर घटाई ब्याज दरें

Published Date-19-Dec-2016 08:52:35 PM,Updated Date-19-Dec-2016, Written by- FirstIndia Correspondent

नई दिल्ली। नोटबंदी के बाद परेशानियों का शिकार बने आमजन के साथ ही अब कर्मचारियों के लिए एक बुरी खबर है। कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) कर्मचारियों के प्रॉविडेंट फंड यानि पीएफ खातों पर ब्याज दर में कटौती की है। ईपीएफओ ने पीएफ खातों पर ब्याज दर घटाकर 8.65% कर दी है। कर्मचारियों के लिए यह निश्चित तौर पर बुरी खबर है क्योंकि पीएफ पर यह ब्याज दर पिछले साल के मुकाबले कम है। पिछले साल यह 8.8 फीसदी थी।


बेंगलुरु में सीबीटी की बैठक में इस बाबत फैसला लिया गया। ईपीएफओ के अंशधारकों की संख्या चार करोड़ से अधिक है और इस फैसले से ये सभी लोग प्रभावित होंगे। नौकरीपेशा लोगों के लिए ईपीएफ सेविंग का एक बड़ा और महत्वपूर्ण जरिया है। हर महीने उसकी सैलरी का 12 फीसदी हिस्सा इस अकाउंट में चला जाता है। कर्मी के कंट्रीब्यूशन का एक हिस्सा एंप्लॉयी पेंशन स्कीम (ईपीएस) में भी जाता है।


गौरतलब है कि इससे पूर्व वित्त मंत्रालय ने वित्त वर्ष 2015-16 के लिए ईपीएफ पर ब्याज दर को घटाकर 8.7 प्रतिशत किया था, जबकि श्रम मंत्री की अगुवाई वाली सीबीटी ने 8.8 प्रतिशत ब्याज की मंजूरी दी थी। ट्रेड यूनियनों के विरोध के बाद सरकार ने अपना फैसला वापस ले लिया था और अंशधारकों को 8.8 प्रतिशत ब्याज देने को सहमति दे दी।

 

New Delhi Demonetisation EPFO Employees Provident Fund Organisation

और देखने के लिए नीचे की स्लाइड क्लिक करें

Recommendation