मोदी की कैशलेस अर्थव्यवस्था की राह में 5 बड़ी बाधाएं!

मोदी की कैशलेस अर्थव्यवस्था की राह में 5 बड़ी बाधाएं!

05-Dec-2016 12:31:27;PM

नई दिल्ली| उत्तर प्रदेश में 27 नवंबर को एक चुनावी रैली के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सभी भारतवासियों से नकदीरहित लेनदेन से परिचित होने को कहा। इसी दिन रेडियो कार्यक्रम मन की बात में उन्होंने कहा, "लोग नकदीरहित लेनदेन सीखें, क्योंकि यह ज्यादा सुरक्षित और पारदर्शी है।"


नई दिल्ली| उत्तर प्रदेश में 27 नवंबर को एक चुनावी रैली के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सभी भारतवासियों से नकदीरहित लेनदेन से परिचित होने को कहा।  इसी दिन रेडियो कार्यक्रम मन की बात में उन्होंने कहा, "लोग नकदीरहित लेनदेन सीखें, क्योंकि यह ज्यादा सुरक्षित और पारदर्शी है।"

 

मोदी सरकार ने ई-बैंकिंग, डेबिट-क्रेडिट कार्ड, कार्ड स्वाइप या पॉइंट ऑफ सेल (पीओएस) मशीन और डिजिटल वॉलेट की जानकारी देने के लिए विशाल सोशल मीडिया कैंपेंन चलाया है। हालांकि भारत में अमेरिका से ज्यादा इंटरनेट उपयोगकर्ता हैं, लेकिन बहुत कम लोगों के पास स्मार्टफोन और इंटरनेट की सुविधा है। बिजनेस स्टैंडर्ड के विश्लेषण के मुताबिक, देश में करीब 90 फीसदी लेनदेन नकद होते हैं।

 

नकदीरहित अर्थव्यवस्था की राह की पांच प्रमुख बाधाएं - 

1. देश में 34.2 करोड़ इंटरनेट प्रयोक्ता हैं, यानी 27 फीसदी आबादी (ट्राई और केलिनर पर्किं स काउफिल्ड एंड बायर्स के आंकड़ों के मुताबिक), लेकिन दूसरी तरफ 73 फीसदी आबादी  या 91.2 करोड़ लोगों के पास इंटरनेट नहीं है। इंडियास्पेंड की मार्च की रपट में बताया गया कि इंटरनेट प्रयोक्ता का वैश्विक औसत 67 फीसदी है। इसमें भारत विकसित देशों से तो  पीछे है ही, नाइजीरिया, केन्या, घाना और इंडोनेशिया से भी पिछड़ा है।

2. स्मार्टफोन केवल 17 फीसदी लोगों के पास हैं। यह कम आय वर्ग में केवल सात फीसदी तथा अमीरों में 22 फीसदी लोगों के पास है।

3. 1.02 अरब लोगों के पास ब्राडबैंड है, लेकिन केवल 15 फीसदी भारतीयों को ही उपलब्ध है। इनमें ट्राई के मुताबिक 90 फीसदी कनेक्शन ही चालू हैं। 

4. मोबाइल इंटरनेट की धीमी स्पीड- भारत में पेज लोड होने का औसत समय 5.5 सेकेंड है, जबकि चीन में 2.6 सेकेंड और दुनिया में सबसे तेज इजरायल में 1.3 सेकेंड है। श्रीलंका और बांग्लादेश में भी भारत से ज्यादा क्रमश: 4.5 और 4.9 सेकेंड है। 

5. देश में प्रति 10 लाख की आबादी पर महज 856 पीओएस मशीनें हैं। आरबीआई की अगस्त 2016 की रपट के मुताबिक कुल 14.6 लाख पीओएस मशीनें हैं। ब्राजील जिसकी आबादी भारत से 84 फीसदी कम है, 39 गुणा अधिक पीओएस मशीनें हैं। 

(आंकड़ा आधारित, गैर लाभकारी, लोकहित पत्रकारिता मंच, इंडियास्पेंड के साथ एक व्यवस्था के तहत। यह इंडियास्पेंड का निजी विचार है।)

 

PM Modi Cashless India POS RBI 

Related Stories

  • img-ractangle

    युवराज सिंह की पर्सनल लाइफ को पब्लिकली करेंगें रणबीर कपूर

    लगता है इनदिनों बॉलीवुड सिर्फ लोगों की ऑटो बियोग्राफ़ी पर ही चल रहा है| इनदिनों बॉलीवुड में स्पोर्ट्स मूवीज बनाने का चलन है| हाल ही में खबरें है कि MS धोनी और दंगल के बाद जल्द ही भारतीय क्रिकेटर युवराज सिहं की जिंदगी पर भी एक फिल्म बनने वाली है|

  • img-ractangle

    प्रियंका चोपड़ा और दीपिका पादुकोण हुई न्यूयॉर्क फैशन वीक में शामिल

    अमेरिक में अपना जलवा बिखरने वाली मशहूर भारतीय अभिनेत्रियों प्रियंका चोपडा और दीपिका पादुकोण ने न्यूयॉर्क फैशन वीक में भी अपनी मौजूदगी का अहसास कराया| नेपाली मूल के डिजाइनर प्रबल गुरूंग की लिबास में बैठी प्रियंका फैशन शो के दौरान पहली कतार में बैठी थी। दोनों ही इस मौके पर बेहद खूबसूरत लग रही थी|

  • img-ractangle

    आपको पता है अधिकतर अमेरिकन्स को ही क्यों मिलता है 'OSCAR'

    एक नए अध्ययन में दावा किया गया है कि आपके ऑस्कर जीतने की संभावना तब बढ़ जाती है, जब आप अमेरिकी संस्कृति दर्शाने वाली फिल्म में एक अमेरिकी अभिनेता हों। ऑस्ट्रेलिया के क्वींसलैंड विश्व विद्यालय के शोधकर्ताओं ने प्रमुख भूमिकाओं के लिए सर्वश्रेष्ठ अभिनेता और अभिनेत्री के ऑस्कर और बाफ्टा पुरस्कारों के वितरण का व्यापक स्तरीय विश्लेषण किया।

  • img-ractangle

    भारत के लक्ष्य बने दुनिया के नंबर 1 जूनियर बैडमिंटन प्लेयर

    BWF विश्व जूनियर बैडमिंटन रैंकिंग में भारत के 15 वर्षीय लक्ष्य सेन ने शीर्ष स्थान हासिल किया है| लक्ष्य उत्तराखंड के रहने वाले है| लक्ष्य ने साल 2016 में जूनियर एशियन चैंपियनशिप में कांस्य पदक जीतने के साथ-साथ अरुणाचल प्रदेश में हुए ऑल इंडिया सीनियर रैंकिंग टूर्नामेंट का खिताब भी जीता था।

News