Questions about rising safety of passengers on Jaipur airport

जयपुर एयरपोर्ट पर यात्रियों की सुरक्षा को लेकर अथॉरिटी पर उठने लगे सवाल

Published Date-16-Mar-2017 10:40:09 PM,Updated Date-16-Mar-2017, Written by- FirstIndia Correspondent

जयपुर। जयपुर एयरपोर्ट की सुरक्षा को लेकर एक बार फिर सवाल उठने लगे है और एयरपोर्ट की सुरक्षा को ताक पर रख दिया है, एक कैब कंपनी ने। हालात यह है कि एयरपोर्ट अथॉरिटी ने कैब कंपनी को ठेका तो दे दिया, लेकिन वहां आने वाले यात्रियों की सुरक्षा दांव पर लगा दी और मामले पर कार्रवाई करने के बजाय खुद एयरपोर्ट अथॉरिटी मामले पर पर्दा डाल रही है।


जयपुर एयरपोर्ट पर हर दिन हजारों यात्री अलग—अलग जगह से जयपुर पहुंचते है। अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा होने के चलते यहां विदेशों से भी काफी लोग आते हैं। ऐसे में यात्रियों को एयरपोर्ट से अन्य जगह ले जाने के लिए एयरपोर्ट ने यहां एक कैब कंपनी सियाराम सिटी कैब कंपनी को टेंडर जारी किया, जो सतीश कट्टा के नाम से रजिस्टर्ड है। अब सियाराम सिटी कैब कंपनी ही यहां आने वाले यात्रियों, जिनमें वीआईपी भी शामिल हैं, उनके लिए खतरा बनती जा रही है।


दरअसल, सियाराम सिटी कैब कंपनी ने जो गाडियां और ड्राइवर एयरपोर्ट पर लगा रखे हैं, उनका रजिस्ट्रेशन और इ्राइवर की पहचान एयरपोर्ट अथॉरिटी के पास है ही नहीं। वहीं, जो टेंडर में शर्ते रखी गई थी, उनका भी सियाराम सिटी कैब कंपनी पालन नहीं कर रही है। इससे पहले भी सियाराम सिटी कैब कंपनी के मालिक सतीश कट्टा पर कई मामलों में आरोप लग चुके है। 


क्या थी टेंडर की शर्तें :
— टेेंडर के तहत फर्म के पास होनी चाहिए 30 गाडियां।
— सभी गाडियां फर्म के नाम से होनी चाहिए।
— गाडियां 5 साल से पुरानी नहीं होनी चाहिए।
— इसमें पांच गाडी एसी और 25 गाडियां नॉन एसी होनी चाहिए।
— लाइसेंस फीस हर साल 10 प्रतिशत बढ़ाई जाएगी।


और ये है हकीकत :
— सियाराम सिटी कैब कंपनी के पास गाडियां ही नहीं।
— बाहर से हायर की जा रही है गाडियां।
— जो गाडियां एयरपोर्ट पर लगाई गई वह कंपनी के नाम से रजिस्टर्ड नहीं।
— सियाराम सिटी कैब कंपनी लगा रही एयरपोर्ट अथॉरिटी को चूना।
— करीब तीन से माह से नहीं चुकाया काउंटर रेंट।
— हर माह करीब 4 लाख से अधिक का है रेंट।
— लाखों रुपए का सर्विस टैक्स बकाया।
— एयरपोर्ट अधिकारियों की भी मिलीभगत।
— कार्रवाई के बजाए मामले को दबाने में लगे।


इस मामले को लेकर जब एयरपोर्ट अथॉरिटी से बात की गई तो उनका कहना था कि उन्हें मामले की जानकारी ही नहीं है। ऐसे में माना जा रहा है कि एयरपोर्ट अथॉरिटी के अधिकारी सियाराम सिटी कैब कंपनी और सतीश कट्टा को बचाने में लगे हुए है। लाखों रुपए का चूना लगाने के बाद भी सियाराम सिटी कैब को एयरपोर्ट से संचालित किया जा रहा है। ऐसे में तो यही माना जा रहा है कि या तो एयरपोर्ट अथॉरिटी सतीश कट्टा की कंपनी सियाराम सिटी कैब को बचाने में लगी है या मामले से अनजान बनी हुई है।


वहीं सियाराम सिटी कैब कंपनी के संचालकों द्वारा कंपनी के ड्राइवरों की पीएफ राशि काटकर भी भविष्य निधि खाते में जमा नहीं कराकर गबन करने का मामला भी सामने आया है, जिसके बाद सभी ड्राइवर एकजुट हो गए है। ऑल राजस्थान टूरिस्ट ड्राईवर वेलफेयर एसोसिएशन का कहना है कि इसको लेकर हमने श्रम विभाग में भी ज्ञापन दिया है और अगर इसको लेकर कार्रवाई नहीं हुई तो एसोसिएशन आंदोलन करेगी।

 

Jaipur, Rajasthan, Airport, Jaipur Airport Authority, Cab Company, Siyaram City Cab, Satish Katta

Click below to see slide

Recommendation