New technology made by 10th pass student in jaisalmer

अनूठे अजूबों के बीच इस 10वीं पास वैज्ञानिक ने बनया टेक्नोलॉजी का नया जुगाड़

Published Date-19-Apr-2017 12:49:18 PM,Updated Date-19-Apr-2017, Written by- FirstIndia Correspondent

जैसलमेर| कुछ करने की तमन्ना हो तो सफलता को छूना कोई बड़ी बात नहीं भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के डिजीटल इंडिया का सपना साकार होता दिख रहा जो एक परमाणु नगरी में 24 वर्षीय 10 वीं पास वैज्ञानिक कमल सोंलकी ने ऐसा ही कुछ कर दिया है। बिजली की व्यर्थ खर्च को देखते हुए राजस्थान सरकार व केन्द्र सरकार की बिजली बचाओ की अपील को ध्यान में रखते हुए एक उपकरण तैयार किया जो पानी के ट्यूबवेल मशीन को चालू व बंद का मोबाइल के जरिए कार्य करता है। 

 

पूर्व में पोकरण के छायण गांव के वैल्डर भोमराज माली नामक युवक ने भी कई ऐसे डिजिटल इंडिया के सपने को साकार बनाने के लिए उपकरण तैयार किए जो तारीफ ए काबिल है। बड़ी बात ये है कि दोनों वैज्ञानिक माली जाति से और 10 वीं व 8 वीं पास है। पोकरण या आसपास के इलाकों में ऐसे उपकरण तैयार करना जिससे युवाओं का हौंसला अफजाई होगा और युवाओं को सीख मिलेगी। 
 

 

पोकरण निवासी माली समाज के युवा वैज्ञानिक कमलकिशोर पुत्र ओम प्रकाश माली ने एक ऐसा उपकरण बनाया है जिसमें बहुत ही कम लागत (खर्चा) आया है इस उपकरण में 1 मोबाइल,1 डीसी मोटर, लकड़ी बोक्श व कुछ अन्य सामग्री काम में ली गई है जिसका खर्चा मात्र 180 या 200 रुपये तक आया है। इस उपकरण के साथ जो मोबाइल जुड़ा है किसान के मोबाइल से उपकरण में सेट दूसरे नंबर पर कॉल करने से टयूबवेल की मशीन को बंद व चालू किया जाता है।

 

इससे किसानों की बिजली व्यर्थ खर्च नहीं होगी जिससे सैंकड़ों बिजली यूनिट की बचत होगी। किसान का मकान ट्यूबवेल पम्प रूम से दूर है या वो मशीन चालू करके भूल से कही बाहर चला गया या उसे बाद में याद आया तो वो उपकरण से जुड़े मोबाइल के नंबर पर कॉल कर के इस उपकरण के द्वारा उस मशीन को अॉफ कर सकता है। इस से पम्प रूम से जिनके घर दूर है उनके समय की भी बचत होगी।

 

Jaisalmer, Rajasthan, Technology, Science, Pokhran, Scientist

Recommendation