पुरातत्व संपदा को संवारने से सच्चे अर्थो में पूरा होगा वर्ल्ड हेरिटेज डे का लक्ष्य

Published Date 2017/04/17 15:51, Written by- FirstIndia Correspondent

 कोटा।18 अप्रेल को हम वर्ल्ड हेरिटेज डे मनाने जा रहे है। ऐतिहासिक इमारतों और पुरातत्व संपदा का राजस्थान से भी खासा गहरा रिश्ता है। यहीं पुरा संपदाएं कुछ संवर चुकी है तो कुछ को अभी भी संवारने की जरूरत है। प्रदेश का हाड़ौती भी 18 वीं सदी से ही ऐतिहास इमारतों के साथ कई स्थानों को लेकर महशहूर रहा है।

 

जानकार मानते है कि हाड़ौती में पिछले कुछ सालों में पर्यटन को बढ़ावा मिला है लेकिन अभी कोटा सहित आसपास के अन्य जिलों में धरोहरों को विकास की जरूरत है। कोटा का गढ़पैलेस, किशोर सागर तालाब के बीच जग मंदिर, चंबल नदी, और शहर के बीच महात्मा गांधी स्कूल इन्ही मशहूर इमारतों में से एक है। वहीं बूंदी के महल के भित्ति चित्र, और झालावाड़ का गागरोन किला व बारां का शेरगढ़ किला भी अपना अहम स्थान रखता है।

 

 

 Rajasthan, Kota, World Heritage Day, Hadoti, Gagron Fort

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

Stories You May be Interested in


Most Related Stories


-------Advertisement--------



-------Advertisement--------