Play Tv

Breaking News

Anandapal Close aid Shreevallabh arrested by nagaure police

आनंदपाल के साथ फरार हुआ खास गुर्गा श्रीवल्लभ गिरफ्तार

Published Date-27-Dec-2016 01:36:03 PM,Updated Date-27-Dec-2016, Written by- FirstIndia Correspondent

डीडवाना। गैंगस्टर आनन्दपाल सिंह के साथ करीब 15 माह पूर्व फरार हुए बदमाश श्रीवल्लभ को डीडवाना पुलिस ने गिरफ्तार कर बड़ी कामयाबी हासिल की है। श्रीवल्लभ पर राज्य सरकार की ओर से एक लाख रुपए का इनाम घोषित है और वह आनन्दपाल सिंह के साथ अनेक मामलों में वांछित है। श्रीवल्लभ के पकड़ में आने से पुलिस को अब आनन्दपाल सिंह सहित उसकी गैंग के बचे हुए आरोपियों के बारे में कई अहम सुराग मिलने की उम्मीद है।


इस मौके पर आज डीडवाना में प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए जिला पुलिस अधीक्षक परिस देशमुख अनिल ने बताया कि श्रीवल्लभ के दो दिन पूर्व जसवंतगढ़ क्षेत्र में आने की सूचना मिली। इस पर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ज्ञानचंद यादव के नेतृत्व में वृताधिकारी डीडवाना नरसीलाल, वृताधिकारी कुचामन विद्याप्रकाश, वृताधिकारी एससीएससी सेल जब्बरसिंह के साथ ही नागौर, डीडवाना, लाडनूं व जसवंतगढ़ थानाधिकारियों की अलग-अलग टीमें बनाकर तलाशी अभियान चलाया गया।


इस दौरान वृताधिकारी जब्बरसिंह की टीम को जसवंतगढ़ के पास एक संदिग्ध की सूचना मिली, जिस पर पुलिस उसके पास पहुंची तो पुलिस को देखते हुए श्रीवल्लभ भागने लगा, जिस पर पुलिस ने पीछा कर उसे पकड़ लिया। इसके बाद उसे पूछताछ के लिए अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक कार्यालय लाया गया, जहां उससे पूछताछ की गई। इसके बाद पुलिस ने एसओजी को सूचित कर दिया।


उन्होंने बताया की श्रीवल्लभ आनन्दपाल सिंह का खास गुर्गों में माना जाता है। इसी के तहत 4 सितम्बर 2015 को परबतसर के पास गांगवा गांव से आनन्दपाल के साथ फरार होने के बाद कई दिन श्रीवल्लभ आनन्दपाल के साथ ही रहा। इस दौरान उन्होंने कुछ दिन राजस्थान में बिताए, वहीं अधिकांश समय हरियाणा, यूपी, गुजरात में बिताए। हरियाणा व यूपी में श्रीवल्लभ आनन्दपाल के साथ ही रहा। वह पिछले दिनों ही सूरत से दिल्ली व दिल्ली से सुजानगढ़ होते हुए जसवंतगढ़ आया था। अपनी पहचान छुपाने के लिए श्रीवल्लभ बसों व ट्रेनों में सफर करता था।


एसपी के मुताबिक श्रीवल्लभ आनन्दपाल सिंह का खास राजदार और गुर्गा रहा है। वह आनन्दपाल सिंह के अपराध जगत में आने के समय से ही साथ रहा है। जीवनराम गोदारा हत्याकांड, बीकानेर जेल फायरिंग प्रकरण तथा आनन्दपाल फरारी प्रकरण आदि मामलों में प्लानिंग और अपराध कारित करने में साझीदार रहा है। इसके अलावा उस पर चोरी, नकबजनी के भी कई मामले दर्ज है, जिनमें वह सजायाफ्ता भी रहा है।


आनन्दपाल सिंह के साथ कई संगीन अपराधों में साथ देने के कारण राज्य सरकार ने उस पर 1 लाख रुपए का ईनाम भी घोषित कर रखा है। आनन्दपाल सिंह को पकड़े जाने के सवाल पर एसपी ने कहा कि पुलिस इस गैंग के सभी सदस्यों को पकडऩे के लिए लगातार प्रयासरत है। इसी का नजीता है कि लगभग सभी सदस्य पुलिस की गिरफ्त में आ चुके हैं। उन्होंने उम्मीद जताई कि आने वाले समय में आनन्दपाल भी शीघ्र पुलिस की गिरफ्त में होगा।


गौरतलब है कि पिछले साल 3 सितम्बर 2015 को डीडवाना कोर्ट से पेशी के बाद वापस अजमेर सेंट्रल जेल जाते समय आनन्दपाल सिंह, सुभाष मूंड व श्रीवल्लभ पुलिस पर हमला व फायरिंग कर फरार हो गए थे। इसके बाद से पुलिस लगातार तीनों को पकडऩे के लिए प्रयास में जुटी रही। इसके तहत सुभाष मूंड पहले ही पुलिस की पकड़ में आ गया। वहीं श्रीवल्लभ को पकडऩे के लिए पुलिस लगातार 3 महीनों तक पीछा करती रही। आखिरकार पुलिस को सफलता मिल ही गई।

 

Nagaur, RajasthanGangster, Anandpal, ShreevallabhArrested, Police, SOG 

Related Stories in City

Relate Category

Poll

क्या पुलिस की ढिलाई के कारण महिलाओं से अपराध बढे हैं?

A Yes
B No

Thought of the day

मूर्खों से तारीफ सुनने से बेहतर है कि आप बुद्धिमान इंसान से डांट सुन ले ~ चाणक्य

Horoscope