Play Tv

Breaking News

deal of suckling baby has been in lieu of borrowing

उधारी की ऐवज में कर दिया दुधमुंहे बच्चे का सौदा

Published Date-29-Aug-2016 02:31:08 PM,Updated Date-29-Aug-2016, Written by- FirstIndia Correspondent

टोंक। राजस्थान के टोंक में माता-पिता के रिश्ते को शर्मसार कर देने वाली एक ऐसी घटना सामने आई है, जिसमें 20 हजार रुपए की उधारी नहीं चुका पाने वाले मां-बाप ने अपने दुधमुंहे बच्चे को उधारी की ऐवज में बेच दिया। खास बात ये है कि जिस शख्स को बच्चा बेचा गया था, उसका मन पसीजने के बाद उसने मासूम को बाल आश्रम में सौंप दिया। टोंक पुलिस फिलहाल मासूम के माता पिता की तलाश में जुटी है, वहीं नन्हा बेकसूर मासूम अपने मां के आंचल का इन्तजार कर रहा है।


टोंक के बाल बालाश्रम में यह मासूम भले ही हंसता-खेलता नजर आ रहा हो, लेकिन इसे इसी के मां-बाप ने अपना 20 हजार रुपए का कर्जा नहीं चूका पाने की ऐवज में अपने ही रिश्तेदार को बेच डाला। वह तो भला हो उस रिश्तेदार का, जिसने इसे बाल सुधार गृह लाकर छोड़ने का निर्णय लिया और आज यह बच्चा सुरक्षित है। अब बाल कल्याण समिति इस बच्चे की देखभाल में जुटी है और प्रयास किये जा रहे हैं कि इसके मां-बाप को तलाशा जाए, जिससे इस बच्चे को फिर से इसके माता-पिता की गोद नसीब हो सके।


जानकारी के अनुसार, टोंक जिले में दूनी के बीजवाड़ गांव में जन्म लेने वाले 6 माह के दुधमुंहे बच्चे के पिता कालू मोग्या खानाबदोश परिवार से है और अपने बच्चे के जन्म के समय ईलाज के लिए टोडारायसिंह निवासी बालूराम मोग्या से 20 हजार रूपए उधार ले लिए थे, लेकिन कर्जा चूकाने में वह असफल रहने और कई महीने तक कालू मोग्या द्वारा पैसों की मांग करने पर वह उसे टालता रहा। इसके बाद जब बालूराम ने सख्ती दिखाई तो कालू और उसकी पत्नी रसाल अपने दुधमुंहे बच्चे को बन्धवा मजदूरी के लिए चुपचाप उसके घर में सोता छोड़कर फरार हो गए।


बालूराम घर पर पहुंचा तो बच्चा रोते-बिलखते मिला, लेकिन बालूराम का दिल बच्चे का रूंदन सुनकर पसीज गया और उसने कालू और उसकी पत्नी रसाल को ढूंढने की कोशिश की। जब उनका कहीं पता नही चला तो वह बच्चे को बाल कल्याण समिति के सुपुर्द कर चला गया। अब ऐेसे में इस दुधमुंहे बच्चे का पूरा परिवार सिर्फ बाल कल्याण समिति का पूरा स्टाफ बन गया है। समिति ने ही बच्चे का नाम वरदान रखा है। समिति की चेयरमेन का कहना है कि यह बच्चा हमारे लिए एक वरदान है।

 

Tonk Rajasthan Duni Kids Deal Child Welfare Committee

Related Stories in City

Relate Category

Poll

क्या पुलिस की ढिलाई के कारण महिलाओं से अपराध बढे हैं?

A Yes
B No

Thought of the day

मूर्खों से तारीफ सुनने से बेहतर है कि आप बुद्धिमान इंसान से डांट सुन ले ~ चाणक्य

Horoscope