Clashes between Akhilesh and Shivpal Yadav about names of candidates

एक बार फिर सपा में खींचतान, अखिलेश-शिवपाल में उम्मीदवारों के नामों को लेकर तनातनी

Published Date-26-Dec-2016 10:36:24 AM,Updated Date-26-Dec-2016, Written by- FirstIndia Correspondent

UP विधानसभा चुनावों से पहले में एक बार फिर अखिलेश यादव और शिवपाल यादव के बीच उम्मीदवारों के नामों को लेकर टकराव हो गया है। पार्टी मेंबर्स के अनुसार, रविवार को सीएम अखिलेश ने पार्टी प्रमुख मुलायम सिंह यादव से मुलाकात करके 403 उम्मीदवारों की लिस्ट सौंपी। जबकि प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव पहले ही 175 कैंडिडेट्स की लिस्ट जारी कर चुके हैं।  सूत्रों का दावा है कि अखिलेश ने मुलायम को जो सूची सौंपी है, उसमें माफिया अंसारी बंधु, बाहुबली अतीक अहमद और पत्नी की हत्या के आरोपी अमनमणि का नाम नहीं है। 


इसके अलावा अखिलेश ने अपने करीबियों को शामिल किया है, जिनका टिकट शिवपाल यादव ने काट दिया था। लिस्ट में मौजूदा 35 से 40 मंत्री-विधायकों के टिकट काट दिए गए हैं। बताया जा रहा है कि सीएम ने एक एजेंसी से कराए सर्वे के आधार पर लिस्ट तैयार की है। ज्यादातर मंत्री और विधायक क्षेत्र की जनता की मांगों को पूरा कर पाने में नाकामयाब पाए गए। सीएम ने इनके टिकट काट दिए हैं। इस बीच, मुलायम सिंह ने विवादित मंत्री गायत्री प्रसाद प्रजापति को पार्टी का राष्ट्रीय सचिव बनाया है। अखिलेश ने करप्शन की शिकायतों के बाद उनको बर्खास्त कर दिया था। लेकिन बाद में उन्हें फिर मंत्री बना दिया था।


चुनाव आयोग इस हफ्ते पांच राज्यों के चुनाव कार्यक्रम का एलान कर सकता है। 28 दिसंबर को चुनाव की तारीखों की घोषणा हो सकती है। अफसरों ने बताया कि पहले 22 दिसंबर को एलान होने वाला था, लेकिन गोवा ने क्रिसमस के बाद चुनाव कार्यक्रम घोषित करने का आग्रह किया था। उत्तर प्रदेश, पंजाब, उत्तराखंड, मणिपुर और गोवा में अगले साल चुनाव होने हैं। जानकारी के मुताबिक, आयोग ने उत्तर प्रदेश में चुनाव के लिए केंद्रीय बल भेजना शुरू कर दिया है। राज्य में 2012 की तरह सात चरणों में वोटिंग संभावित है। इसकी शुरुआत पश्चिमी उत्तर प्रदेश से हो सकती है। वहां केंद्रीय बल भेजे गए हैं। 

 

पहले चरण के लिए करीब 50 कंपनियों एक-दो दिन में पहुंच रही हैं। पंजाब के लिए केंद्रीय बल की 100 कंपनियां भेजी गई हैं। कांग्रेस हाईकमान पंजाब विधानसभा चुनाव के लिए लुधियाना ईस्ट सीट से पूर्व केंद्रीय मंत्री मनीष तिवारी के नाम पर विचार कर रहा है। खुद तिवारी ने भी पार्टी हाईकमान से कह दिया है कि यदि टिकट दिया गया तो वह विधानसभा चुनाव लड़ेंगे। इस सीट पर गुरमेल सिंह पहलवान, वरिंदर सहगल और संजय तलवाड़ को दावेदार माना जा रहा था। अभी तक घोषित 77 उम्मीदवारों में से 32 जाट सिख और हिंदू सिर्फ 11 ही हैं। कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने तिवारी को चुनाव लड़ाने में दिलचस्पी दिखाई है। 

 

Uttar pradesh, Akhilesh Yadav, Shivpal Yadav, Samajwadi party, Assembly elections, Clashes

और देखने के लिए नीचे की स्लाइड क्लिक करें

Recommendation