मणिपुर में बीजेपी सरकार अग्नि परीक्षा में हुई कामयाब, सीएम बिरेन सिंह ने साबित किया बहुमत

Published Date 2017/03/20 13:40, Written by- FirstIndia Correspondent

नई दिल्ली| गोवा के बाद मणिपुर में भी बीजेपी सरकार ने बहुमत साबित कर दिया है। जी हां सोमवार को बीजेपी ने सदन में हुई अग्नि परीक्षा को पास कर लिया है, और उन्होंने ध्वनिमत से विश्वास प्रस्ताव जीत लिया है| मणिपुर के मुख्यमंत्री एन बिरेन सिंह ने सोमवार को विधानसभा में फ्लोट टेस्ट पास कर लिया। 60 सदस्यों वाली विधानसभा में 33 विधायकों ने उनकी सरकार को समर्थन दिया।

 

11 मार्च को घोषित चुनाव परिणामों में मणिपुर की 60-सदस्यीय विधानसभा में कांग्रेस 28 सीटों के साथ अव्वल स्थान पर रही थी, और बीजेपी को सिर्फ 21 सीटें मिल पाई थीं, लेकिन कांग्रेस के अलावा अन्य विधायकों के समर्थन के दावों के साथ बीजेपी ने भी सरकार गठन का दावा पेश किया था, जिसे राज्यपाल नजमा हेपतुल्ला ने मान लिया, और उन्हें न्योता दे दिया| इसके बाद बुधवार, 15 मार्च को बीजेपी नेता एन बीरेन सिंह को मुख्‍यमंत्री पद की शपथ दिलाई गई थी, और एनपीपी नेता यूमनाम जयकुमार सिंह को डिप्‍टी सीएम के रूप में पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई गई|

 

आपको बता दें कि बीरेन सिंह को पिछले सोमवार (13 मार्च) को सर्वसम्मति से बीजेपी विधायक दल का नेता चुना गया था और उन्होंने राज्यपाल से मुलाकात कर राज्य में अगली सरकार बनाने का दावा पेश किया था| इबोबी सिंह के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार के पूर्व मंत्री बीरेन ने मणिपुर की सेवा करने का मौका देने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी नेतृत्व का आभार जताया था| बीरेन सिंह को सरकार बनाने का निमंत्रण उस दिन दिया गया था, जब एनडीए में शामिल नगा पीपुल्स फ्रंट के चार सदस्यों ने राज्यपाल से मुलाकात कर सरकार गठन के लिए बीजेपी को समर्थन देने की घोषणा की|

 

राजभवन सूत्रों ने बताया था कि नगा पीपुल्स फ्रंट के चार विधायकों ने राज्यपाल से मुलाकात की थी और बीजेपी को समर्थन देने की घोषणा की थी| गोवा के बाद मणिपुर दूसरा ऐसा राज्य बना, जहां हालिया संपन्न विधानसभा चुनाव में सबसे बड़े दल के रूप में नहीं उभरने के बावजूद बीजेपी की गठबंधन सरकार बन गई है|

 

गौरतलब है कि मणिपुर एवं गोवा में सरकार बनाने के प्रयासों को लेकर कांग्रेस की आपत्तियों को खारिज करते हुए बीजेपी ने कहा था कि कांग्रेस पर्याप्त संख्याबल जुटाने में विफल रही तथा अपने पूर्व के कर्मों के कारण उसे विरोध करने का कोई नैतिक अधिकार नहीं| केंद्रीय मंत्री वेंकैया नायडू ने संसद परिसर में कहा था, 'कांग्रेस ने विगत में कई बार अधिकारों और अनुच्छेद 356 का दुरुपयोग कर गैर-कांग्रेसी सरकार को गिराया है, उसने सबसे बड़े दल को सरकार नहीं बनाने दी| उनके पास आलोचना करने का कोई नैतिक अधिकार नहीं है|

 

Manipur, Biren Singh, Floor Test, Government, Congress, Election

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

Stories You May be Interested in


Most Related Stories


-------Advertisement--------



-------Advertisement--------