Kharmas started now Good works will stop for a month

मलमास शुरू, एक माह तक नहीं होंगे मांगलिक कार्य

Published Date-15-Mar-2017 05:27:39 PM,Updated Date-15-Mar-2017, Written by- FirstIndia Correspondent

मांगलिक कार्यो पर खरमास की छाया पड़ गई है। धुलंडी के दूसरे दिन यानि 14 मार्च से खरमास शुरू हो गया है| खरमास को मीन माह, मलमास या काली रात भी कहते हैं| खरमास 13 अप्रैल 2017 को खत्म होगा| माना जाता है कि इस पूरे महीने कोई भी शुभकार्य नहीं करते| खासतौर से शादी से जुड़ी बातचीत या खरीदारी नहीं करते| शास्त्रों के अनुसार जिस परम धाम गोलोक को पाने के लिए ऋषि तपस्या करते हैं, वही दुर्लभ पद खर मास में स्नान, पूजन, अनुष्ठान व दान करने वाले को सरलता से प्राप्त हो जाते हैं| गुरु की राशि में सूर्य का गोचर खरमास कहलाता है|

 

मकर संक्रान्ति पर सूर्य के मकर राशि में प्रवेश करने के बाद से मांगलिक कार्यो के लिए शुभ मुहूर्त मिलने लगे थे। जिसका प्रभाव मंगलवार को शाम 7.13 बजे समाप्त हो गया। क्योंकि शाम 7.13 बजे के बाद मीन राशि की संक्रान्ति आ गई। इसकी वजह से 13 अप्रैल तक खरमास का प्रभाव बना रहेगा और शहर में शहनाई की गूंज नहीं सुनाई देगी| ज्योतिषयों के अनुसार 14 मार्च को मीन राशि की सूर्य संक्रान्ति शाम 7.13 बजे से आ जाएगी और इसी के साथ खरमास प्रारंभ हो जाएगा।

 

जो 13 अप्रैल की रात 3.31 बजे सूर्य की संक्रान्ति अश्रि्वनी नक्षत्र और मेष राशि पर होगी। इस अवधि के दौरान विवाह के लिए शुभ मुहूर्त का अभाव रहेगा| उन्होंने बताया कि खरमास के दौरान साधकों द्वारा ईश्वर की भक्ति, पूजा पाठ व भागवत कथा का किया जाना श्रेष्ठ फलदायक साबित होगा। धर्मग्रंथों के अनुसार खरमास को भगवान पुरुषोत्तम ने अपना नाम दिया है। इसलिए इस मास को पुरुषोत्तम मास भी कहा जाता है। इस मास में ज्यादा से ज्यादा श्रीमद्भागवत कथा का पाठ करना अनंत पुण्यदायक होता है|

 

Kharmas, Malmas, Good works, Kharmas month, Shubhakarya, Festival, Holi, Hindu festival, Hindu month

Recommendation