जानिए होलिका दहन का समय, राशि अनुसार करें ये उपाय चमक जाएगी किस्मत

Published Date 2017/03/10 14:40, Written by- FirstIndia Correspondent

क्या आप या आपके घर का कोई सदस्य किसी गंभीर बीमारी से पीड़ित है ? क्या आपको लगता है की दरिद्रता आपका पीछा नहीं छोड़ रही है? क्या आपको हर कदम पर रूकावटो का सामना करना पड़ रहा है? यदि हाँ ..तो मित्रो, इस बार की होली का त्यौहार आपकी सभी मनोकामना को पूर्ण कर सकता है| आपकी सभी परेशानियो और गंभीर कष्टों को दूर कर सकता है| आपके नीरस जीवन मे चमत्कारिक रूप से परिवर्तन ल सकता है तो कैसे आप अपना भाग्य इस बार की होली के त्यौहार पर बदल सकते है|

 

सदियों से मानव ने प्रत्येक बुराई को अच्छाई में, प्रत्येक दुःख को सुख में बदलने के लिए प्रयास किए। इन प्रयासों में जब कभी वह सफल हुआ तो इसे एक उत्सव, विजय के रूप में मनाने के लिए आतुर हुआ। ऐसे ही जीवन में सुख, शांति, जोश, उल्लास, परस्पर प्रेम, भाईचारा बढ़ाने के लिए होली का रंगबिरंगा पर्व मनाया जाता है। शास्त्रों के अनुसार होलिका का पूजन विधि-विधान से करने से अतुल्य पुण्य की प्राप्ति होती है।सभी कष्टों से मुक्ति मिलती है|


 
 होलिका दहन फाल्गुन मास की प्रदोष व्यापिनी पूर्णिमा को भद्रा रहित करना शास्त्र सम्मत माना गया है । इस बार दिनांक 12 मार्च सन 2017 रविवार के दिन प्रदोषकाल व्यापिनी पूर्णिमा तिथि होने से होलिका दहन इसी दिन होगा

होलिका दहन का शुभ मुहूर्त है - सायंकाल 6 बजकर 18 मिनट से 6 बजकर 42 मिनट तक के मध्य करना शास्त्रानुसार शुभ रहेगा ।

 


होलिका दहन पर होली की पूजा की विधि -

अपनी सभी मनोकामनाओ को पूर्ण करने के लिए, अपने सभी कष्टों से मुक्ति पाने के लिए होलिका दहन करने से पहले होली की पूजा अवश्य करनी चाहिए . होली की पूजा करते समय होलिका के पास जाकर पूर्व या उतर दिशा की ओर मुख करके बैठ जाये . एक पूजा की थाली मे   एक लोटा जल, माला, रोली, चावल, गंध, पुष्प, कच्चा सूत, गुड, साबुत हल्दी, मूंग, बताशे, गुलाल, नारियल आदि पूजा का सामान रख ले , साथ मे नई फसल के धान्य जैसे- पके चने की बालियां व गेंहूं की बालियां भी साथ मे  रखे . होली की पूजा का संकल्प करे . सबसे पहले गणेश जी भगवान का , माँ अम्बिका का पंचोपचार पूजन करे . अक्षत,गंध,पुष्प अर्पण करे . अब आप भगवान नृसिंह का और प्रह्लाद का ध्यान करते हुए उनकी पंचोपचार पूजा करे . गंध, चावल व फूल चढ़ाएं। अब आप होलिका के सामने दोनो हाथ जोड़कर खड़े हो जाएं तथा अपनी मनोकामनाएं की पूर्ति के लिए निवेदन करें , अब गंध, चावल, फूल, साबूत मूंग, साबूत हल्दी, नारियल होलिका के डंडे के समीप छोड़ें। कच्चा सूत उस पर बांधें और फिर हाथ जोड़ते हुए होलिका की सात परिक्रमा करें। परिक्रमा के बाद लोटे में भरा पानी वहीं चढ़ा दें।अपनी मनोकामना पूर्ण करने के लिए होलिका में जिन वस्तुओं की आहुति दी जाती है, उसमें कच्चे आम, नारियल, भुट्टे या सप्तधान्य ( गेंहूं, उडद, मूंग, चना, जौ, चावल और मसूर ), चीनी के बने खिलौने, नई फसल का कुछ भाग है.  सेंक कर लाये गये धान्यों को खाने से अपनी काया हमेशा निरोगी रहती है . घर मे अन्न का भंडार हमेशा बना रहता है |


 
होली पर्व पर राशि अनुसार कुछ ऐसे चमत्कारी उपाय जिनको होलिका दहन की रात को करने से आप अपनी किस्मत बदल सकते है -:
 
मेष राशि :
इस राशि के जातक-जातिकाओं को किसी भी प्रकार की कारोबारी,पारिवारिक या स्वास्थ्य सम्बंधी परेशानी हो या इसका हमेशा भय बना रहता है, मेहनत का उचित फल नहीं मिलता हो तो होलिका दहन के समय एक तांबे की कटोरी में चमेली का तेल, पांच लौंग और आंवले के पेड़ के पांच पत्ते, थोड़ा सा गुड़। यह सभी समान कटोरी में रख दें। मंगल गायत्री मन्त्र का 108 बार जाप करते हुए समस्त सामग्री को होलिका दहन के समय होलिका में अर्पित कर देना चाहिए। प्रात: काल सुबह होली की थोड़ी सी राख लेकर आएं और उस राख को चमेली के तेल में मिला कर अपने शरीर पर मालिश करें। किसी भी तरह की समस्या होगी उसका निवारण होगा। एक घंटे बाद हल्के गरम पानी से स्नान कर लें।
सात चुटकी राख, सात तांबे के छेद वाले सिक्के, लाल कपड़े में बांधकर अपने व्यापारिक प्रतिष्ठान के मुख्य द्वार पर टांग दें या इस सामग्री को अपनी तिजोरी में रख दें। धन लाभ अवश्य होगा।


 
वृष राशि:
इस राशि के जातक-जातिकाओं को यदि व्यापारिक समस्या हो, घर में सुख शांति न हो, लेन-देन के मसलों से परेशानी हो, स्वास्थ्य अनुकूल न रहता हो, कारोबार से लाभ न मिल रहा हो तो चाँदी की कटोरी ले लें और उसमें थोड़ा सा दूध, पांच चुटकी चावल डाल दें, गुलमोहर के पांच पत्ते डाल दें। थोड़ा पांच चुटकी शक्कर, इन सारे सामानों को होलिका दहन के समय शिव गायत्री मन्त्र का 108 बार जाप करके अगि् को समर्पित कर दें। कैसी भी व्यापारिक समस्या होगी उसका निवारण हो जाएगा।
होली के प्रात:काल सफेद कपड़े में 11 चुटकी होलिका दहन की राख और एक सिक्का चाँदी का बांध लें। इस सामग्री को अपनी तिजोरी में रख दें। कारोबारी सारी समस्याओं का निवारण होगा।


 
मिथुन राशि:
1. अनावश्यक कलह, व्यापार में घाटा, अपनों का विरोध, मानसिक अस्थिरता, इन सारी समस्याओं के निवारण के लिए होलिका दहन के समय कांसे की कटोरी में 50 ग्राम हरे धनिया का रस, 108 दाने साबूत मूंग के, पीपल के पांच पत्ते, कोई भी हरे रंग की मिठाई – इन सारी सामग्रियों को अपने हाथ में रख कर ॐ ऐं ह्रीं क्लीं चामुण्डाय विच्चे का 108 बार जाप करके इस सामग्री को होलिका दहन के समय अगि् को समर्पित कर दें। सारी समस्याओं का निवारण हो जाएगा।
हरे कपड़े में 3 चुटकी होलिकादहन की राख, 3 हरे हकीक के पत्थर बांधकर अपने व्यापारिक प्रतिष्ठान के मुख्य द्वार पर बांध लें या इस सामग्री को तिजोरी में रख दें। कारोबारी समस्या का निवारण अवश्य होगा।


 
कर्क राशि :
1. मानसिक अस्थिरता रहे, काम में रुचि नहीं रहे, अपनों से धोखा मिला करे, काम बदलने की प्रवृत्ति बढ़े, तो ऐसी अवस्था में सभी समस्याओं के समाधान के लिए एक कटोरी ले लें और उसमें थोड़ा सा दही रख लें, फिर उसमें पांच चुटकी चावल भी डाल लें, अशोक के सात पत्ते और सफेद पेठा की मिठाई ले लें। इन सबको कटोरी में रख कर अपने हाथ में रख लें। महामृत्युंजय का 108 बार जाप करके अगि् को समर्पित कर दें। इससे सारी समस्याओं का निवारण हो जाएगा।
प्रात:काल सफेद कपड़े में होलिका दहन की राख 7 चुटकी, 7 गोमती चक्र बांधकर दुकान, व्यापारिक प्रतिष्ठान या घर के मुख्य द्वार पर लटका दें अथवा अपनी तिजोरी में रख दें। महालक्ष्मी की कृपा अवश्य होगी।
 


सिंह राशि:
1. यदि कारोबार में सफलता नहीं मिल रही हो, स्वास्थ्य अनुकूल नहीं हो,कार्यों में अप्रत्याशित बाधा आ रही हो तो होलिका दहन के दिन कांसे की कटोरी में थोड़ा सा घी ले लें, पांच चुटकी गेहूं, पांच चुटकी देसी खाण्ड, अशोक वृक्ष के पांच पत्ते, कटोरी में रखकर अपने हाथ में ले लें और सूर्य गायत्री का 108 बार जाप करके समस्त सामग्री को होलिका को समर्पित कर दें। सारी समस्याओं का समाधान हो जाएगा।
सुनहरे कपड़े में 5 चुटकी होलिका दहन की राख, तांबे के पत्र पर खुदा हुआ सूर्य यंत्र, पांच तांबे के पुराने सिक्के बांधकर जहाँ धन रखते हैं, यदि वहाँ रख दिया जाए तो व्यावसायिक प्रतिकूलताओं का शमन होगा। एक बात का ध्यान अवश्य रखें, सूर्य यंत्र को खोल कर घी का दिया व धूप अवश्य दिखाएं।


 
कन्या राशि:
1. किसी काम में स्थिरता नहीं बनती हो, दिए हुए पैसे वापस नहीं मिल रहे हों, अपनों की वजह से हमेशा परेशानी झेलनी पड़ रही हो या कारोबारी या कानूनी समस्या हो तो ताम्बे की कटोरी में आंवले का थोड़ा सा तेल ले लें और पांच पत्ते नीम,पांच इलायची, नारियल से बनी मिठाई, इन सारी सामग्री को कटोरी में डाल कर अपने हाथ में रख लें और 108 बार बुध के बीज मंत्र का जाप करते हुए सारी सामग्री को हालिका में दहन कर दें। सारी समस्याओं का निवारण हो जाएगा।
हरे कपड़े में 11 चुटकी होलिका दहन की राख, 11 बलास्त (बीता) हरा धागा, छेद वाले तांबे के सात सिक्के बांध कर दुकान, व्यापारिक प्रतिष्ठान आदि के मुख्य द्वार पर टांग दें या अपने तिजोरी में रखने से कारोबार में वृध्दि होगी और सारी समस्याओं का निवारण हो जाएगा।


 
तुला राशि:
1. यदि व्यापारिक, शारीरिक या पारिवारिक समस्याओं से जूझना पड़ रहा हो अथवा अनावश्यक कार्य बाधा आ रही हो तो इन्हें चाँदी की कटोरी में पांच छोटी चम्मच गाय के दूध की खीर ले लें, पांच पत्ते शीशम के, गेंदा के पांच फूल, इन सारी सामग्रियों को अपने हाथ में रख कर शिव षडाक्षरी मंत्र यानी ॐ नम: शिवाय का 108 बार जाप करके होलिका दहन के समय यह समस्त सामग्री अगि् को समर्पित कर दें। सारी समस्याओं का निवारण हो जाएगा।
क्रीम रंग के कपड़े में 7 चुटकी होलिका दहन की राख, 7 कोड़ियां पीली धारी वाली बांधकर अपनी तिजोरी में रख दें। अवश्य लाभ होगा।


 
वृश्चिक राशि:
1. इस राशि के जातक-जातिका यदि कार्य सफलता के लिए जूझना पड़ रहा हो और तब भी कार्य सफलता न मिल रही हो, कारोबार में लाभ न मिल रहा हो तो इन्हें तांबे की कटोरी में चमेली का तेल डाल कर, पांच साबूत लाल मिर्च, एक बुंदी का लड्डू, पांच गूलर के पत्ते, इन समस्त सामग्री को अपने हाथ में रखकर ॐ हं पवननन्दनाय स्वाहा का 108 बार जाप करके सारी सामग्री अगि् को समर्पित कर दें। सारी समस्याओं का निवारण हो जाएगा।
लाल कपड़े में 17 चुटकी होलिका दहन की राख, 1लाल मूंगा बांधकर अपनी तिजोरी में रख दें। कारोबार सम्बंधित सारी समस्या का निवारण होगा।


 
धनु राशि:
1. यदि व्यापारिक, शारीरिक या पारिवारिक समस्याओं से जूझना पड़ रहा हो अथवा अनावश्यक कार्य बाधा आ रही हो तो इन्हें एक पीतल की कटोरी में देसी गाय का थोड़ा सा घी, थोड़ा सा गुड़, पांच चुटकी चने की दाल, पांच आम के पत्ते डाल अपने हाथ में रख लें फिर बृहस्पति गायत्री मंत्र का 108 बार जाप करके इन समस्त सामग्रियों को होलिका दहन के समय अगि् को समर्पित कर दें। सारी समस्याओं का निवारण हो जाएगा।
पीले कपड़े में 9 चुटकी होलिका दहन की राख एवं 11 पीली कोड़ियां बांधकर अपनी तिजोरी में रख लें। कारोबार सम्बंधी कष्टों से छुटकारा मिल जाएगा।


 
मकर राशि:
1. यदि व्यापारिक, शारीरिक या पारिवारिक समस्याओं से जूझना पड़ रहा हो, अथवा अनावश्यक कार्य बाधा आ रही हो तो इन्हें एक लोहे की कटोरी में सरसों का तेल थोड़ा सा लें, उसमें पांच चुटकी काली तिल, पांच बरगद के पत्ते, एक काला गुलाब जामुन मिठाई, इन समस्त सामग्रियों को अपने हाथ में लेकर ॐ शं शनैश्चराय नम: इस मंत्र का 108 बार जाप करके इस समस्त सामग्री को हालिका दहन के समय अगि् में समर्पित कर दें। सारी समस्याओं का निवारण हो जाएगा।
नीले कपड़े में 11 चुटकी राख, 11 छोटी लोहे की कील बांधकर घर या व्यापारिक संस्था के मुख्य द्वार पर लटका दें। सारी समस्याओं का निवारण हो जाएगा।
 
 
कुम्भ राशि:
1. यदि व्यापारिक, शारीरिक या पारिवारिक समस्याओं से जूझना पड़ रहा हो, अथवा अनावश्यक कार्य बाधा आ रही हो तो इन्हें एक स्टील की कटोरी में तिल का तेल, 108 दानें साबूत उड़द के, खेजड़ी (झण्डी) के पांच पत्ते या कदंब के पांच पत्ते, पांच काली मिर्च, कोई भी काले रंग की एक मिठाई, इन समस्त सामग्री को अपने हाथ में रख कर मंगलकारी शनि मंत्र की 108 बार जाप करके होलिका दहन के समय अगि् को समर्पित कर दें। सारी समस्याओं का निवारण हो जाएगा।
काले कपड़े में 11 चुटकीहोलिका दहन की राख, 7 काजल की डिब्बी बांधकर कारोबारी प्रतिष्ठान के मुख्य द्वार पर लटका दें। सारी समस्याओं का निवारण हो जाएगा।


 
मीन राशि:
1. यदि व्यापारिक, शारीरिक या पारिवारिक समस्याओं से जूझना पड़ रहा हो अथवा अप्रत्याशित कार्य बाधा आ रही हो तो इन्हें कांसे की कटोरी में बादाम का तेल थोड़ा सा उसमें 108 जोड़े चने की दाल के, कोई भी थोड़ी सी पीली मिठाई, आम के पांच पत्ते, एक गांठ हल्दी, इन समस्त सामग्री को अपने हाथ में लेकर ॐ ग्रां ग्रीं ग्रौं गुरवे नम: मंत्र का 108 बार जाप करके इन समस्त सामग्रियों को हालिका दहन के दिन अगि् को समर्पित कर दें। सारी समस्याओं का निवारण हो जाएगा।पीले कपड़े में 7 चुटकी होलिका दहन की राख, तांबे के 7 सिक्के और 11 कौड़ी बांधकर घर, दुकान, व्यापारिक प्रतिष्ठान के मुख्य द्वार पर लटका दें। सारी व्यावसायिक पीड़ाओं से छुटकारा मिलेगा।

 


कुछ और ऐसे चमत्कारी उपाय जिनको होलिका दहन की रात को करने से आप अपनी किस्मत बदल सकते है

  • यदि आपको बार-बार पैसे का नुकसान हो रहा हो तो आप होलिका दहन की शाम को मुख्यद्वार पर दोमुखी आटे का दीपक बनाएं, पहले चौखट पर थोड़ा सा गुलाल छिड़ककर उस पर दोमुखी दीपक जला कर रखें। साथ ही मन में अपनी आर्थिक हानि रोकने के लिए ईश्वर से निवेदन करें। जब दीपक जल चुके, ठंडा हो जाए तो उसे जलती होली पर रख आएं।
  • घर में यदि कोई बीमार हो तो आप होली की रात्रि में चार गोमती चक्र लेकर शुद्ध करके दाएं हाथ की मुट्ठी में बांधकर सदस्य की बीमारी से मुक्ति के लिए प्रार्थना करते हुए ग्यारह परिक्रमा करें। होलिका को एक जोड़ा लौंग, घी में डुबोकर दो पान के पत्ते व थोड़ी सी मिश्री अर्पित करें। गोमती चक्र लाकर चांदी की तार में पीड़ित व्यक्ति के पलंग के चारों पाये में बांध दें। गंभीर से गंभीर रोग में फायदा होगा।
  • यदि संतानपक्ष से चिंता हो तो संतान का सुख प्राप्त करने के लिए मंदिर में भगवान की पोशाक बनवाएं। होली के दिन यह संकल्प लें। आपकी सभी इच्छाएं पूरी होंगी।
  • होली दहन के अगले दिन सर्वप्रथम अपने ईष्ट को गुलाल अर्पित करें। अपने निवास के ईशान कोण का पूजन कर गुलाल अर्पित करें। इससे निवास के सभी वास्तुदोष दूर हो जाएंगे। मित्रों के साथ होली खेलने के लिए हरे रंग का प्रयोग अवश्य करें।
  • रोगमुक्त होने के लिए चौदह रुपए की सब्जी 23 बुधवार तक काली गाय को खिलाएं। होली के दिन से यह उपाय शुरू करें।
  • व्यापार में तरक्की हो व कामों में रुकावट न आए, इसके लिए होली वाले दिन गणोश रुद्राक्ष धारण करें। ॐ गणपतये नम: का जाप मूंगे की माला से करें व चमत्कारी प्रभाव देखें।
  • चांदी की डिबिया में शुद्ध बासमती चावल भरकर और ॐ नमो विष्णवे नम: जपते हुए होली वाली रात्रि को घर के भंडारगृह में रखने से भंडारघर सदा भरा रहता है। तिंजोरी में डिबिया को लाल कपड़े से बांधकर रखने पर तिजोरी कभी खाली नहीं रहती। धन प्रतिदिन बढ़ता ही जाता है।
  • गृहक्लेश निवारण हेतु होली के दिन गौरीशंकर रुद्राक्ष पहनें। होली से शुरू करके प्रतिदिन तुलसी के पास घी का दीपक जलाएं।
  • भाग्यवृद्धि के लिए हनुमानजी के मंदिर में एक नागरपात्र (डंठल सहित बिना चूने कत्थे का), ग्यारह लोंग, एक बूंदी का लड्डू वर्क लगाकर, एक अनार चढ़ाएं।
  • होली के दिन से आरंभ कर ग्यारह मंगलवार तक करें।
  • होली के दिन गाय के आगे बांसुरी बजाते हुए श्रीकृष्ण का चित्र घर, दुकान या कार्यालय में लगाएं। इसके प्रभाव से कर्ज नहीं बढ़ेगा, बल्कि धीरे-धीरे उतर जाएगा।
  • सुबह सुबह पहले भगवान को रंग चढ़ा कर ही होली खेलना शुरू कीजिये |
  • अगर किसी वजह से आप रात में होलीं जलाने के वक्त शामिल न हो पायें तो अगले दिन सुबह सूरज निकलने से पहले जलती हुई होली के निकट जाकर तीन परिक्रमा करें | होली में अलसी , मटर ,चना गेंहू कि बालियाँ और गन्ना इनमे से जो कुछ भी मिल जाये उसे होली की आग में जरुर   डालें |
  • होली की विभूति यानि भस्म (राख) घर जरुर लायें पुरुष इस भस्म को मस्तक पर और महिला अपने गले में लगाये, इससे एश्वर्य बढ़ता है |
  • घर के बीच में एक चौकोर टुकड़ा साफ कर के उसमे कामदेव का पूजन करें |
  • होली के दिन दाम्पत्य भाव से अवश्य रहें |
  • होली के दिन मन में किसी के प्रति शत्रुता का भाव न रखें,  इससे साल भर आप शत्रुओं पर विजयी होते रहेंगे |
  • घर आने वाले मेहमानों को सौंफ और मिश्री जरुर खिलायें, इससे प्रेम भाव बढ़ता है |

 

Holi, Holika Dahan, Holika Puja Timings, Holika Dahan muhurat, Pooja vidhi, Zodiac

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

Stories You May be Interested in


Most Related Stories


-------Advertisement--------



-------Advertisement--------