karva chauth 2016

100 साल बाद इस बार विशेष योग में होगा करवा चौथ का चन्द्रमा

Published Date-18-Oct-2016 11:45:43 AM,Updated Date-18-Oct-2016, Written by- FirstIndia Correspondent

नई दिल्ली।  इस वर्ष, यह व्रत विशेष रूप से फलदायी होगा क्योंकि 100 साल बाद करवाचौथ का महासंयोग बना है। रोहिणी नक्षत्र, बुधवार, सर्वार्थ सिद्धि योग एवं गणेश चतुर्थी का संयोग इसी दिन है जो ज्योतिषीय दृष्टि से बहुत अच्छा माना जाता है। गणेश जी की पूजा का भी विशेष महत्व रहेगा। चंद्रमा स्वयं, शुक्र की राशि वृष में उच्च के होंगे ।

 

बुध स्वराशि कन्या  में और शुक्र व शनि एक ही राशि में विराजमान होंगे। यही नहीं ज्योतिष शास्त्र के अनुसार भी शुक्र  प्रेम का परिचायक है। इस दिन शुक्र ग्रह, मंगल की राशि वृश्चिक में है जिससे संबंधों में उष्णता रहेगी। मंगलवार की रात्रि 11 बजे तक तृतीया तिथि रहेगी और इसके बाद से चतुर्थी तिथि आरंभ होकर बुधवार की सायं  07.33 बजे तक रहेगी ।  

 

ऐसे शुभ समय में महिलाएं की अखण्ड सुहाग की कामना शीघ्र पूर्ण होगी। चन्द्रमा को अमृतकारक ग्रह बताया गया है। अतः इस काल में महिलाऔ की अखण्ड सौभाग्य की कामना अवश्य ही पूर्ण होगी। विवाहित महिलाएं पति की लम्बी उम्र की कामना से इस व्रत को करेगीं कुंआरी कन्याएं उत्तम पति की प्राप्ति हेतु इस व्रत को करती हैं।

 

ज्योतिष शास्त्रियों का मानना है की 2016 में करवाचौथ का व्रत रखने से 100 व्रतों का वरदान प्राप्त होगा। न केवल पति की उम्र लंबी होगी बल्कि संतान सुख भी प्राप्त होगा।  

 

MarriedWomen, KarvaChauth, 2016

और देखने के लिए नीचे की स्लाइड क्लिक करें

Recommendation