1 more than 1 million google accounts breached by gooligan

10 लाख अकाउंट्स की सिक्योरिटी पर मंडरा रहा है Gooligan मालवेयर का खतरा

Published Date-01-Dec-2016 12:13:25 PM,Updated Date-01-Dec-2016, Written by- FirstIndia Correspondent

नई दिल्ली। दुनिया के सबसे बड़े सर्च इंजन Google से जुड़े 10 लाख अकाउंट्स की सिक्योरिटी पर खतरा मंडरा रहा है। इसकी वजह एंड्रॉइड मालवेयर के नए वर्जन गूलीगन (Gooligan) है। ऑनलाइन सि‍क्‍युरि‍टी कंपनी चेक प्वाइंट सॉफ्टवेयर टेक्नोलॉजीज के मुताबि‍क गूलीगन ने गूगल के 10 लाख से ज्यादा अकाउंट्स का पर्सनल डाटा चुरा लिया है। 

 

कंपनी के मुताबिक, इससे जीमेल, गूगल फोटो, गूगल प्ले व गूगल डॉक्स से यूजर्स की जानकारी चुराई जा सकती है। गूगल ने कहा कि हम सिक्युरिटी बढ़ाने के साथ एक्शन ले रहे हैं। फर्म का कहना है कि ‘गूलीगन’ एंड्रायड मालवेयर का एक नया वर्जन है। इसके अनुसार इस सेंधमारी से जीमेल, गूगल फोटो, गूगल प्ले व गूगल डॉक्स से यूजर्स की जानकारी चुराई जा सकती है।

 

आपको बता दें कि चेक प्‍वाइंट के हेड ऑफ मोबाइल प्रोडक्‍ट्स माइकल शोलोव के मुताबिक गूलीगन ने 10 लाख गूगल अकाउंट में सेंधमारी कर पर्सनल डि‍टेल चोरी की हैं। ये काफी खतरनाक है और यह नेक्‍स्‍ट स्टेज के साइबर अटैक्‍स को दिखलाता है। इससे जीमेल, गूगल फोटो, गूगल प्ले व गूगल डॉक्स से यूजर्स की जानकारी चुराई जा सकती है। माइकल ने बताया कि पिछले एक साल में हैकर्स ने अपनी स्ट्रेटजी को पूरी तरह बदल दिया है। अब हैकर्स पर्सनल कम्प्यूटर्स की जगह मोबाइल डिवाइसेज को टार्गेट कर रहे हैं। 

 

चेक प्‍वाइंट की रि‍पोर्ट में बताया गया है कि ये मालवेयर रोजना 13,000 डि‍वाइसेस पर असर डाल रहा है। अब तक गूलीगन एंड्रॉइड 4 (जेली बीन, कि‍टकैट) और 5 (लॉलीपॉप) को टारगेट कर रहा है। मार्केट में मौजूद कुल एंड्रॉइड डि‍वाइसेस में इनकी हि‍स्‍सेदारी करीब 74% है। इसमें से 40% डि‍वाइसेस एशि‍या में और करीब 12 फीसदी यूरोप में हैं।

 

Google, Google Accounts, Gooligan, Malware

और देखने के लिए नीचे की स्लाइड क्लिक करें

Recommendation