situation can not not improved even after 48 days of demonetisation

नोटबंदी के 48 दिन बाद भी नहीं सुधर रहे हालात, कैश के लिए अभी भी दिख रही कतारें

Published Date-27-Dec-2016 06:05:57 PM,Updated Date-27-Dec-2016, Written by- Ravish Tailor

टोंक। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा काले धन के खात्मा किए जाने के लिए लागू किए गए नोटबंदी के फैसले को 50 दिन पूरा होने में अब कुछ ही दिन बचे हैं, लेकिन बैंकों मे कैश की किल्लत का दौर अभी तक भी खत्म होने का नाम नही रहा है। जबकि आम आदमी अपने ही पैसों के लिये बैंकों के बाहर धक्के खा रहा है और घंटों लाईन मे लगने के बावजूद उसके पैसे नही मिल पा रहे है। ग्रामीण क्षेत्र के हालात और भी बुरे है, जहां लाईन लगने के बावजूद बैंक प्रबंधन अपने हिसाब से बैंक खोल रहे हैं और अपने चहेतों को पैसे दे रहे हैं।


देश मे नोटबंदी को लागू हुए 48 दिन गुजर चुके हैं, लेकिन देशभर के बैंकों से पैसे निकलवाने के लिये लोगों को घंटों कतार मे लगना पड़ रहा है। लोगों का कहना है कि सबसे ज़्यादा मार ग़रीब, वंचित, मज़दूर और छोटे व्यापारियों पर पड़ी है। आज दिहाड़ी मज़दूरों को काम नहीं मिल पा रहा। पिछले 48 दिनों से देशभर में अफ़रा-तफ़री मची है, सारे काम छोड़कर लोग अपनी ही मेहनत और बचत के पैसे पाने के लिए धक्के खा रहे हैं, लेकिन बैंक मैनेजर लोगों को कैश देने के बजाय दलालों के जरिये कैश बांट रहे हैं। 


कुछ ऐसा ही वाकिया टोंक जिले के देवली उपखंड के राजमहल गांव में बडौदा ग्रामीण बैंक की शाखा पर देखने को मिला, जहां लोगों की भीड़ जमा हो गई। भीड में मौजूद लोग बैंक की ब्रांच के बाहर हंगामा करते रहे और बैंक का स्टाफ दरवाजा बंद कर अंदर बैठा रहा। लोगों का आरोप है कि बैंक वाले दलालों के माध्यम से कैश बांटने का काम कर रहे हैं। दलाल बैंक के अंदर बैठे रहते हैं और मैनेजर के इशारे पर कैश के बदले कमीशन का खेल खेलते हैं।


पिछले सात दिनों से लोगों को कैश नहीं दिया गया है, जबकि बैंक में रोजाना कैश आता है। लोग रोज बैंक के बाहर जमा होकर हंगामा करके वापस लौट जाते हैं, लेकिन बैंक स्टाफ के खिलाफ किसी प्रकार की कार्यवाही नहीं होती है। पिछले 48 दिनों में नोटबंदी के बाद देश के उद्योगों में भी उत्पादन गिरा है। किसान अपनी उपज मंदी में नहीं ला पा रहे हैं। सरकार ने गेहूं का आयात शुल्क समाप्त कर देश के किसानों को अपनी फ़सल सस्ते में बेचने पर मजबूर कर उनका शोषण किया है। नोटबंदी के कारण नक़दी संकट से काम ठप्प हो रहा है, अगर लोगों को काम नहीं मिलेगा तो देश नहीं बचेगा।

 

Tonk Rajasthan Demonetisation PM Narendra Modi Bank Black Money New Notes

और देखने के लिए नीचे की स्लाइड क्लिक करें

Recommendation