Tourism has been suffers by DeMonetisation in Udaipur

नोटबंदी की मार झेल रहा है पर्यटन

Published Date-27-Nov-2016 03:52:59 PM,Updated Date-27-Nov-2016, Written by- FirstIndia Correspondent

उदयपुर | मोदी सरकार द्वारा नोटबंदी के बाद पूरे देश में पैसों के लिए हाहाकार मचा हुआ है| जहां कुछ लोग इस फैसले को सही ठहरा रहे है, वहीं विपक्ष दल लगातार इसके विरोध में हैं। पर्यटन नगरियों और पर्यटकों पर इसका सबसे ज्यादा असर पड़ता दिखाई दे रहा है। देश के सबसे सुन्दर शहर में सुमार पाने वाले झीलों के शहर उदयपुर में भी इसका खासा असर दिख रहा है। हर वर्ष इन दिनों में यह शहर पर्यटकों से आबाद रहता था, लेकिन आज यहां के सभी स्थल विरान हो गए हैं।

 

नोटबंदी का सबसे ज्यादा असर पर्यटन नगरी उदयपुर में देखा जा रहा है। साल में 8 महीने यह शहर पर्यटकों से गुलजार रहता है। अक्टूबर से लेकर फरवरी तक तो इससे जुड़े व्यवसायियों को बिल्कुल भी फुर्सत नहीं मिलती है। यहां के पर्यटन स्थल, होटेल्स, गेस्ट हाउस फुल ही रहते है। आलम तो यह हो जाता है कि अगर पिक सीजन में किसी को यहां आना है तो उसे पहले से बुकिंग कराना होती है। इन आठ महिनों में लाखों देशी विदेशी पर्यटक यहां आते है और यहां की खूबसूरती को हमेशा अपनी यादों में संजोकर चले जाते है।

 

यहां पर देखने के लिए मुख्य रूप से 12 पर्यटन स्थल है, जहां दिन भर में हजारों पर्यटक पहुँचते है। लेकिन पिछले दस दिनों से यहां का हर पर्यटन स्थल विरान पड़ा हुआ है। इक्का दुक्का पर्यटक ही यहां पर दिखाई दे रहे है। हे​ण्डिक्राफ्ट व्यवसायी भी खाली ही बैठे है। पर्यटकों से गुलजार रहने वाली झीलों की नगरी में इस वर्ष पिछली बार के मुकाबले पर्यटकों की संख्या में कमी आई है। पर्यटन अधिकारी का भी मानना है कि पर्यटकों की संख्या में कमी आई है, लेकिन वह खुलकर बोल नहीं पाई कि इसका कारण नोटबंदी ही रहा है।

 

Udaipur, Notebandi, Tourism, DeMonetisation, Udaipur tourism place

Recommendation