shilputsav me phunche desh videsh ke jane mane bhurupiya kalakar

शिल्पउत्सव में पहुंचे देश विदेश के जाने माने बहुरूपिया कलाकार

Published Date-30-Dec-2016 02:37:08 PM,Updated Date-30-Dec-2016, Written by- FirstIndia Correspondent

उदयपुर| देश की सबसे प्राचिन एवं रंगबिरंगी बहुरूपिया कला के कलाकारों ने उदयपुर में अपनी कला का बेहतरीन प्रदर्शन किया। पश्चिमी सांस्कृतिक कला केन्द्र द्वारा शिल्पग्राम में आयोजित हो रहे शिल्पउत्सव में देश के जाने माने एक दर्जन बहुरूपिया कलाकार जमा हुए। 

 

भारतीय संस्कृति को जीवंत करने वाली बहुरूपिया कला इन दिनों अपने अंतिम समय में नजर आ रही है। दरअसल इस कला के मार्फत बहुरूपिया कलाकार भारतीय संस्कृति से देश की आने वाली पीढ़ी को अवगत कराते हैं, लेकिन देश की नई पीढी इस कला को स्वीकार करने को तैयार नहीं है। उदयपुर के पश्चिमी क्षेत्र सांस्कृतिक कला केन्द्र द्वारा आयोजित शिल्पउत्सव में आये बहुरूपियों ने शहरवासी और पर्यटकें को जमकर मनोरंजन किया।

 

गाडीया लोहार की जिंदगी हो या फिर भील राजा निषाद राज, जिन्न, गब्बर डाकु, कृष्ण की लीला हो या सुपर्णखा का रूप यहीं नहीं बंदर का रूप, साथ ही कभी चार्ली चेप्लीन के रूप में बहुरूपिया ने लोगों का जमकर मनोरंजन किया। इस दौरान बहुरूपियों ने लोगों को डराने, उनसे साथ हसीं ठीठोली करने और अपनी कला का परिचय देने में कोई कसर नहीं छोडी। देश के कोने कोने से आये बहुरूपियों ने इस कला के विलुप्त होने पर दूःख जाहिर किया तो साथ ही सरकार से इस कला और इसके कलाकारों के संरक्षण की मांग भी की।

 

Shilpgram Udaipur, Shilputsav, Protean artist

Recommendation