यहां द्वारकाधीश खुद लगाते हैं कचहरी, दरबार में अपने कर्मों की माफी मांगते हैं लोग

Published Date 2017/08/19 11:59,Updated 2017/08/19 05:36, Written by- FirstIndia Correspondent
+3
+3

झालावाड़ | ये जो भीड़ आप देख रहे है ये वो भीड़ है जो अपने गुनाहों की माफी मांगने भगवान द्वारिकाधीश के सामने खड़ी है और भगवान द्वारिकाधीश ऊपर बैठकर लाल छतरी में इनको आम माफी दे रहे है और ये हम नही कह रहे है ये परम्परा है 211 साल पुरानी| जब पहले भगवान ऊपर छतरी में बैठते थे इसके बाद जो राजा होता था वो नीचे बैठता था तब कचहरी लगती थी और दोषियों को भगवान के सामने पेश कर आम माफी दी जाती थी| इसके बाद जनता भी आम माफी मांगती थी कि गलती दुबारा नही करेंगे|

यह परंपरा पिछले 211 सालों से लगातार चली आ रही है और जन्माष्टमी के बाद भगवान द्वारकाधीश का दरबार लगता है और दरबार में भगवान द्वारकाधीश लाल छतरी में विराजमान होकर लोगों को दर्शन देते हैं| इसके बाद आम जनता भगवान द्वारकाधीश के सामने पेश होकर आम माफी मांगती है, जिसके मन में पश्चाताप हो या गुनाह किया हो वो भी यहां आता है और आम माफी मांगता है और भगवान द्वारकाधीश उसको माफ कर देते हैं|

इस दौरान द्वारकाधीश मंदिर में भक्तों का सैलाब उमड़ पड़ता है और लोग आप माफी मांगकर खुश होते  है और प्रभु के सामने यह प्रण लेते हैं यह गलती दोबारा नहीं करेंगे| उसके बाद प्रसाद वितरण करने के बाद सब लोग अपने घर चले जाते हैं|

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

Stories You May be Interested in


Most Related Stories


-------Advertisement--------



-------Advertisement--------