सेना के जवान राजू का राजकीय सम्मान के साथ किया अंतिम संस्कार

Published Date 2018/07/03 12:28,Updated 2018/07/03 12:31, Written by- FirstIndia Correspondent

लक्ष्मणगढ़(अलवर)। अलवर जिले के लक्ष्मणगढ़ क्षेत्र के गांव टोड़ा निवासी आईटीबीपी 49वीं बटालियन में ड्राइवर पद पर कार्यरत 32 वर्षीय जवान राजू कुमार के पार्थिव शरीर के गांव टोडा पहुंचने पर परिजनों, लोगों एवं आईटीबीपी तथा स्थानीय पुलिस की ओर से दर्शन कर पूर्ण राजकीय सम्मान के साथ जाबांज का अंतिम संस्कार किया गया। आईटीबीपी के जवानों की ओर से 2 चक्र हवाई फायर कर शौक सलामी दी गई। 

जानकारी के अनुसार अरूणाचल प्रदेश में बसर तहसील जिला पश्चिम शियांग में आईटीबीपी 49वीं बटालियन में ड्राइवर पद पर कार्यरत राजू कुमार की 29 जून की दोपहर को चट्टान के नीचे दबने से मौत हो गई। राजू का पार्थिव शरीर सेना के वाहन के जरिए दिल्ली से लक्ष्मणगढ़ तहसील के गांव टोडा 2 जुलाई को दोपहर 11 बजे पहुंचा। हजारों की तादाद में लोगों ने पैदल चलते हुए राजू अमर रहे के जयकारों के साथ स्वागत किया। जवान के अंतिम दर्शन के लिए उमड़े जनसैलाब के लिए जगह मिलना भी मुश्किल हो गया था। पार्थिव शरीर के घर पहुंचते ही पत्नी, भाई सहित परिवार जनों का सब्र का बांध टूट गया। वो बेसुध होकर बार बार जमीन पर गिर जाते थे। लोगों ने उनको संभाला। घर पर परिजनों एवं लोगों ने अंतिम दर्शन किए। जिसके बाद पार्थिव शरीर को अंतिम संस्कार के लिए ले जाया गया। सोमवार 2 जुलाई को दोपहर बाद 12 वर्षीय भतीजे मोहित ने मुखाग्नि दी। 

समाजसेवी सुरेश मीणा ने अंतिम संस्कार एवं मूर्ति के लिए दी जगह:- 
जवान राजू की भविष्य में मूर्ति लगवाने के लिए पार्थिव शरीर का अंतिम संस्कार उसी जगह कराने की बात रखी जिस जगह मूर्ति लग सके। ऐसे में टोडा गांव में कोई जगह चिन्हित नहीं हो सकी। इसके बाद समाजसेवी सुरेश मीणा एवं सरपंच ललिता राहुल मीणा ने मुख्य रोड़ पर भैरूजी मंदिर के सामने अपनी निजी जगह में अंतिम संस्कार के लिए जगह दी। उसी जगह पर मूर्ति लगाने के लिए भी सहमति दी। 

परिजनों का रो रोकर बुरा हाल - 
राजू के पिता बृजलाल, माताजी शान्ति देवी, राजू की पत्नी नरेश देवी एवं उसकी पांच वर्षीय बेटी, राजू के भाई हुकम चंद एवं दयाराम का रोरोकर बुरा हाल है। 

प्रशासनिक अधिकारी एवं राजनेता भी पहुंचे - 
जवान राजू की शहादत को सलाम करने एवं अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए प्रशासनिक अधिकारियों एवं राजनीतिक हस्तियां भी पहुंची। जिनमें विधायक गोलमा देवी, विधायक मंगलराम कोली, पूर्व विधायक सूरजभान धानका, पूर्व विधायक बाबूलाल बैरवा, प्रधान संजय खींची, नरसी किराड़, महेन्द्र धवन, आदितेन्द्र सिंह, राकेश बैरवा, तारेश जाटव, सरपंच मुन्नी देवी, राजेश जाटव कठूमर, रूपनारायण नागर, सुरेश भनोखर, लक्ष्मीकांत सहित हजारों लोग मौजूद थे। 
प्रशासनिक अधिकारियों में आईटीबीपी के डीआईजी जसपाल सिंह, आईटीबीपी के इंस्पेक्टर रामकिशोर राठी, एसडीएम निधी सिंह, पुलिस उपाधीक्षक राजेश मलिक, एसएचओ प्रहलाद सहाय, तहसीलदार मोनिका शर्मा, कानूनगो मुकेश अग्रवाल सहित आला अधिकारी एवं कर्मचारी मौजूद थे। 

डीआईजी ने मांग पूरी करने का दिया आश्वासन - 
ग्राम पंचायत सरपंच ललिता राहुल मीणा एवं समाजसेवी सुरेश मीणा ने अंतिम संस्कार में पहुंचे आईटीबीपी के डीआईजी जसपाल सिंह से कुछ मांगे रखी। जिनमें राजू को शहीद का दर्जा, गांव के विद्यालय का नाम राजू के नाम से करने, परिवार के एक सदस्य को नौकरी, परिवार को आर्थिक सहायता तथा राजू की प्रतिमा लगवाने की मांग रखी। इस पर जसपाल सिंह ने उक्त सभी मांगों को पूरा करने का आश्वासन दिया। इस दौरान आईटीबीपी के इंस्पेक्टर रामकिशोर राठी भी मौजूद थे। 
 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in

loading...

-------Advertisement--------



-------Advertisement--------

25669