अटल जी को कल शाम 5 बजे यमुना किनारे दी जाएगी मुखाग्नि 

FirstIndia Correspondent Published Date 2018/08/16 08:21

नई दिल्ली। देश के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का आज दिल्ली के एम्स में शाम 5 बजकर 5 मिनट पर निधन हो गया। इसके बाद देश भर में शोक की लहर दौड़ गई। वह 93 साल के थे। अटल जी लंबे समय से बीमार चल रहे थे। वाजपेयी को सांस लेने में परेशानी, यूरीन व किडनी में संक्रमण होने के कारण 11 जून को एम्स में भर्ती किया गया था।

बहरहाल शुक्रवार दोपहर 01:30 बजे अटल जी की अंतिम यात्रा निकाली जाएगी। यह अंतिम यात्रा बीजेपी दफ्तर से स्मृति स्थल को निकाली जाएगी। वाजपेयी का पार्थिव शरीर सुबह नौ बजे बीजेपी मुख्यालय ले जाया जाएगा। यहां उनका पार्थिव शरीर आम लोगों के अंतिम दर्शन के लिए रखा जाएगा। अटल बिहारी वाजपेयी के पार्थिव शरीर को एम्स से सीधे उनके कृष्णा मेनन मार्ग स्थित आवास ले जाया गया है। रातभर उनके पार्थिव शरीर को आवास पर ही रखा जाएगा। 

बता दें कि केंद्र सरकार ने सात दिन का राजकीय शोक घोषित किया। इस दौरान आधा झंडा झुका रहेगा। वाजपेयी को यमुना किनारे विजय घाट पर मुखाग्नि दी जाएगी। केंद्रीय शहरी विकास मंत्रालय ने इसके लिए डेढ़ एकड़ जमीन मुहैया कराई है। वाजपेयी का अंतिम संस्कार कल दिल्ली के राष्ट्रीय स्मृति स्थल पर शाम 5 बजे किया जाएगा।

अटल बिहारी वाजपेयी के निधन पर मध्य प्रदेश सरकार ने शुक्रवार को सार्वजनिक छुट्टी की घोषणा की है। इसके अलावा उत्‍तर प्रदेश, उत्‍तराखंड, झारखंड और बिहार में सात दिन का राजकीय शोक घोषित किया गया है। पंजाब ने तीन दिन का राजकीय शोक घोषित किया। 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in

दिलावर की \'भीष्म प्रतिज्ञा\' | Election Express

सचिन ने आदिवासियों को \'साधा\' | Election Express
सीकर में \'कमल\' और मजबूत | Election Express
RAS अफसरों की \'हुंकार\' ! | Election Express
मारवाड़ का \'कास्ट कार्ड\'! | Election Express
सांसद दुष्यंत सिंह पहुंचे झालावाड़ के पिड़ावा एसडीएम कार्यालय
जयपुर में अब कम्प्यूटर बनाएगा ड्राइविंग लाइसेंस
ग्रामीण गौरव पथ योजना, योजना ने बदली गांवों की तस्वीर