नर्मदा नहर परियोजना पर बड़ा फैसला, अब बाढ़ में भी नहीं टूटेगी नहरे

FirstIndia Correspondent Published Date 2018/06/07 02:55

जालोर। जालोर का सबसे बड़ा प्रोजेक्ट नर्मदा नहर परियोजना सीधे तौर पर किसानों से जुड़ी हुई है। ऐसे में किसानों की हितेषी मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने नहर परियोजना को लेकर किसानों के हित में बड़ा फैसला लिया है। जिसके एक्शन प्लान पर नर्मदा नहर परियोजना की कायाकल्प तक कर दी गई है।

जालोर के सांचौर में गुजरात से नर्मदा का मीठा पानी नर्मदा नहर परियोजना के जरिए सांचौर क्षेत्र में लाकर क्षेत्र की कायाकल्प कर दी वही किसानों के लिए योजना जीवनदायिनी साबित हुई। इससे किसान संपन्न हुए और खेत खलियान हरे भरे हो गए। जिस क्षेत्र में खेती करने के लिए किसानों को सोचना पड़ता था उसी क्षेत्र में आज 2008 में मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के नेतृत्व कि प्रदेश सरकार में परियोजना की नींव रखकर मीठा पानी लाया गया। नर्मदा नहर परियोजना सीधे तौर पर मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे की देन है। जिसे किसान कभी नहीं भूलते लेकिन क्षेत्र में लगातार दो बार आ चुकी बाढ़ से नर्मदा नहर परियोजना को बड़े स्तर पर नुकसान हुआ। इससे नहर पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो जाती है और पूरा नहरी सिस्टम फेल हो जाता है। 

ऐसे में मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने किसानों के हितों को देखते हुए नर्मदा परियोजना पर बड़ा फैसला लिया। परियोजना की नहरों को बाढ़ से बचाने के लिए नर्मदा विभाग ने नहरो पर क्रॉस बनाने को लेकर केंद्र व राज्य सरकार को प्रस्ताव भेजे है। जिस पर प्रदेश सरकार ने गंभीरता दिखाते हुए प्रस्ताव को मंजूरी दी वहीं केंद्र सरकार से भी मंजूरी मिल गई। अब पूरे एक्शन प्लान को शुरू करना था जिस पर 387 करोड़ का बजट खर्च होना जिसमें प्रदेश व केंद्र सरकार दोनों ने मिलकर 200 करोड़ की किस्त नर्मदा नहर परियोजना की कायाकल्प करने के लिए विभाग को दे दी। अब 187 करोड़ की किस्त जल्द ही सरकार नर्मदा नहर परियोजना विभाग को जारी कर देगी जिसमें नर्मदा मुख्य नहर पर क्रॉस बनाए गए। इससे बाढ़ का पानी नर्मदा मुख्य नहर को कहीं से भी नुकसान नहीं पहुंचाएगा वही जिस जगह से बाढ़ के पानी की आवक रही उन जगहों को चिन्हित कर बड़े स्तर पर क्रॉस बनाए गए अब बाढ़ में बाढ़ का पानी नहरो के नीचे से पार हो सकेगा। जिससे नहरों को कोई नुकसान नहीं होगा। सांचौर मुख्य नहर पर 8 कॉस ओर सांचौर लिप्त केनाल पर 9 कॉस व माइनर व सबमाईनर पर 8 कॉस बनाये गये। इसके साथ ही परियोजना से जुड़ी सभी नहरो पर बड़ी संख्या में क्रॉस बनाए गए है।

मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे किसानों को लेकर हमेशा संवेदनशील रही ऐसे में नर्मदा नहर परियोजना पर लिए गए एक्शन प्लान के बड़े फैसले का सीधे तौर पर किसानों को फायदा मिलेगा जिससे नहर टूटने से लंबे समय तक नहरो की मरम्मत का कार्य चलता ओर किसानों को पानी नहीं मिल पा रहा था अब किसानों को पानी मिल पाएगा वहीं नहरे टूटने से आस-पास के किसानों की जमीनों को नुकसान होता अब किसानों के नुकसान को भी रोका जा सकेगा। ऐसे सांचौर व बाड़मेर जिले के गांवों के लिए नर्मदा नहर परियोजना बड़े स्तर पर किसानों के लिए जीवनदायिनी बन चुकी है। प्रदेश सरकार के इस फैसले का किसान पलक पावडे बिछा कर स्वागत करते नजर आते है।
 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in

BJP पार्षद ने की यूपी पुलिस के दरोगा की पिटाई

अमृतसर में दशहरे पर बड़ा ट्रेन हादसा, 50 से ज्यादा की मौत, कई घायल
पंजाब के अमृतसर में बड़ा ट्रेन हादसा, 50 से अधिक लोगों के मरने की आशंका
साईंबाबा के दर पर शिरडी पहुंचे पीएम मोदी
2:00 बजे की सुपर फास्ट खबरें | News 360
गुडलक टिप्स में जानिए, अपनी समस्याओं के समाधान जानिए पंडित मुकेश शास्त्री जी से
जन्मदिन पर एनडी तिवारी की अंतिम सांस
Big Fight Live | जीतना जरूरी है ! | 18 OCT, 2018