सी विजिल एप से आचार संहिता उल्लंघन पर अब लग रहा है अंकुश

Dr. Rituraj Sharma Published Date 2018/11/08 05:39

जयपुर (ऋतुराज शर्मा)। चुनाव की दौड़ में शामिल नेताओं पर भारत निर्वाचन आयोग का शिकंजा कस चुका है। जी हां सी विजिल एप की लॉन्चिंग हो चुकी है और इसमें 469 में से 214 शिकायतों पर कार्रवाई भी हो चुकी है। बाकी शिकायत या तो गलत पाई गई या उन पर अभी जांच जारी है। पेश है प्रदेश में इस एप को लेकर मिले अच्छे रिस्पोंस को लेकर यह खोजपरक रिपोर्ट-

आचार संहिता के उल्लंघन को लेकर इस बार भारत निर्वाचन आयोग खासी सख्ती बरत रहा है। स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव की राह में एक कदम बढ़ाते हुए आयोग ने इस बार सी विजिल एप को लॉन्च किया है।  पहले यह एप राजस्थान में 12 नवंबर यानी नामांकन प्रक्रिया शुरू होने के साथ शुरू होने वाला था लेकिन अब यह छत्तीसगढ़ में नामांकन प्रक्रिया शुरू होने के साथ 1 अक्टूबर से ही शुरू हो गया है।

सी विजिल एप के जरिए जो भी शिकायत आती है वह सबसे पहले जिला कलेक्टर के स्तर पर बनी कमेटी द्वारा देखी जाती है। कमेटी शिकायत सही पाए जाने पर उसे आर ओ को कार्रवाई के लिए भेजती है। वहीं कलेक्टर को शिकायत गलत या फर्जी लगती है तो वह अपने स्तर पर ही कमेटी खारिज कर देती है।

—अब तक 469 शिकायतें हुईं पंजीकृत
—इनमें से 214 शिकायतों पर आरओ ने कार्रवाई भी की है
—सबसे ज्यादा कोटा में 96 शिकायतें
—जिसमें से 65 सही जिस पर RO ने की है कार्रवाई
—1 अक्टूबर से 6 नवंबर तक की आई अपडेट रिपोर्ट
—सिरोही में सबसे कम शून्य शिकायत
—जबकि डूंगरपुर में 1 ही शिकायत, वह 1 शिकायत भी DCC द्वारा खारिज
—अजमेर में डीसीसी की ओर से 6 शिकायतें और आर ओ की ओर से 10 शिकायतें खारिज की गई हैं जबकि 27 शिकायतें सही पाते हुए उनके खिलाफ कार्रवाई की गई है, यहां कुल मिलाकर 46 शिकायतें सी विजिल के जरिए दर्ज हुई।
—अलवर में डीसीसी ने 10 शिकायतें खारिज की तो आरओ ने 3 शिकायतें गलत मानी। चार शिकायतों को सही मानते हुए आरोपी ओर से कार्रवाई की गई।कुल 17 शिकायतें पंजीकृत हुई है।
—बांसवाड़ा में 4 शिकायतें डीसीसी और एक शिकायत आरओ ने खारिज की है। एक शिकायत को सही मानते हुए कार्यवाही की गई है और इस तरह से कुल 6 शिकायतें यहां दर्ज की गई।बारां में तीन शिकायतें आरओ ने खारिज की यहां तीन ही शिकायतें दर्ज की गई थी।
—बाड़मेर में डीसीसी ने चार और आर ओ ने 7 शिकायतें खारिज की हैं। 15 शिकायतों को सही मानते हुए कार्रवाई की गई और कुल मिलाकर 26 शिकायतें दर्ज हुई हैं।
—भरतपुर में दो शिकायतें डीसीसी ने और 3 शिकायतें आरओ ने खारिज की है 3 शिकायतों पर जांच चल रही है और उन पर निर्णय होना बाकी है जबकि 11 शिकायतें सही पाते हुए  कार्रवाई की गई है।
—भीलवाड़ा में 12 शिकायतें आरओ ने खारिज की है जबकि आरओ की ओर से 8 शिकायत सही पाते हुए उन पर कार्रवाई की गई है। यहां कुल 20 शिकायतें मिली हैं।
—बीकानेर में 5 शिकायतें डीसीसी ने और दो शिकायत आरओ ने खारिज की है। एक शिकायत को आरओ द्वारा सही पाया गया और कार्रवाई की गई। यहां कुल 8 शिकायतें मिली।
—बूंदी में दो शिकायत डीसीसी ने खारिज की है एक शिकायत को आरओ ने सही माना और कार्रवाई की है यहां कुल 3 शिकायतें मिली।
—चित्तौड़गढ़ में डीसीसी ने 4 शिकायतें और आरओ ने 7 शिकायतें खारिज की हैं। यहां दो शिकायतें आर ओ ने सही पाते हुए उन पर कार्रवाई की है यहां पर कुल 13 शिकायतें मिली हैं। 
—चुरू में एक शिकायत डीसीसी ने और 16 शिकायतें आरओ ने खारिज की है। यहां 10 शिकायतों को सही मानते हुए उनपर आरओ ने कार्यवाही की है। कुल 27 शिकायतें दर्ज की गई है। 
—दौसा में 19 शिकायतों को आरओ ने ड्रॉप किया है और 19 शिकायतें ही दर्ज की गई हैं।
—धौलपुर में 3 शिकायतें डीसीसी ने और दो शिकायतें आरओ ने खारिज की है। एक शिकायत को सही मानते हुए आरओ ने कार्रवाई की है। कुल 6 शिकायतें यहां पर मिली हैं।
—डूंगरपुर में एक ही शिकायत मिली जिसे डीसीसी ने खारिज कर दिया।
—श्रीगंगानगर में 7 शिकायतों को डीसीसी ने खारिज किया जबकि 12 शिकायतों को सही मानते हुए और उन पर कार्यवाही की है। कुल 19 शिकायतें दर्ज की गई हैं।
—हनुमानगढ़ में 7 शिकायतों को आर ओ ने खारिज किया है यहां 7 ही शिकायतें मिली थी।
—जयपुर में 2 शिकायतों को डीसीसी ने और 15 शिकायतों को आर ओ ने खारिज किया है। 20 शिकायतों को सही मानते हुए उन पर कार्यवाही की गई है। यहां कुल 37 शिकायतें मिली थी। 
—जैसलमेर में 2 शिकायतों को डीसीसी ने खारिज किया है और दो ही शिकायतें मिली थी।
—जालौर में दो शिकायतों को डीसीसी ने खारिज किया तो एक शिकायत को आरओ ने खारिज किया है। एक शिकायत पर जांच जारी है और उसमें निर्णय होना बाकी है। दो शिकायतों को सही मानते हुए उनपर आरओ ने कार्रवाई की है। कुल 6 शिकायतें यहां मिली थी।
—झालावाड़ में दो शिकायतों को डीसीसी ने खारिज किया है एक शिकायत को सही मानते हुए कार्यवाही की है कुल 3 शिकायतें यहां मिली थी।
झुंझुनू में चार शिकायतों को आरओ ने खारिज किया है दो शिकायतों को सही मानते हुए उन पर कार्रवाई की है कुल 6 शिकायतें यहां मिली थी।
—जोधपुर में 3 शिकायतों को डीसीसी ने और दो शिकायतों को आर ओ ने खारिज किया है जबकि एक शिकायत को सही मानते हुए उस पर आरओ ने कार्रवाई की है। कुल 6 शिकायतें यहां मिली थी।
—करौली में 5 शिकायतों को आरओ ने ड्रॉप किया है और एक शिकायत को सही मानते हुए कार्रवाई की है कुल 6 शिकायतें यहां मिली थी।
—कोटा में दो शिकायतों को डीसीसी ने 28 शिकायतों को आर ओ ने खारिज किया है। एक शिकायत पर जांच जारी है और उस पर निर्णय होना बाकी है। 
—सबसे ज्यादा 65 शिकायतों को सही माना गया है और उन पर कार्रवाई की है और यहां कुल 96 शिकायतें मिली थी।
—नागौर में 3 शिकायतों को डीसीसी ने एक शिकायत को आरओ ने खारिज किया है एक शिकायत को सही मानते हुए आरओ ने कार्रवाई की है। कुल 5 शिकायतें यहां मिली थी।
—पाली में 3 शिकायतों को डीसीसी ने दो शिकायतों को आर ओ ने खारिज किया है और 2 शिकायतों पर कार्रवाई की गई है।कुल 7 शिकायतें यहां मिली थी।
—प्रतापगढ़ में मिली दो शिकायतों पर आरओ ने कार्रवाई की है राजसमंद में दो शिकायतों को डीसीसी ने 7 शिकायतों को आरओ ने खारिज किया है। एक शिकायत पर जांच बाकी है और अभी उस पर निर्णय होना है। 4 शिकायतें ऐसी थी जिसे  सही मानते हुए और उन पर कार्रवाई की है। कुल 14 शिकायतें यहां दर्ज की गई हैं।
—सवाई माधोपुर में 4 शिकायतें डीसीसी ने और दो शिकायतें आरओ ने खारिज की हैं। कुल 9 शिकायतों को सही मानते हुए उन्हें कार्रवाई की है। यहां कुल 15 शिकायतें मिली थी।
—सीकर में दो शिकायतों को डीसीसी ने दो शिकायतों को आरओ ने खारिज किया है। 6 शिकायतें सही पाई गई हैं और उन पर कार्रवाई की गई है। यहां कुल 10 शिकायतें मिली थी। सिरोही में एक भी शिकायत नहीं मिली।
—टोंक में एक शिकायत को डीसीसी ने खारिज किया है। एक शिकायत को आर ओ ने खारिज किया है तो एक शिकायत पर जांच जारी है और उस पर निर्णय होना बाकी है। यहां ऐसी कोई भी शिकायत नहीं थी जिसे सही मानते हुए उन पर कार्रवाई की है। यहां कुल 3 शिकायतें मिली थी।
—उदयपुर में 5 शिकायतों को डीसीसी ने चार शिकायतों को आर ओ ने खारिज किया है। 5 शिकायतों को सही मानते हुए आरओ ने उन पर कार्रवाई की है। कुल 14 शिकायतें यहां मिली थी।
—इस तरह से कुल 82 शिकायतों को डीसीसी ने, कुल 166 शिकायतों को आर ओ ने खारिज किया है। 214 शिकायतों को सही मानते हुए उन पर कार्रवाई की गई है और 7 शिकायतें ऐसी है जिसमें जांच जारी है और निर्णय होना बाकी हैं। अब तक सी विजील एप में 469 शिकायतें दर्ज की गई है।

आइये जानते हैं कि यह एप कैसे करता है काम
—आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन की सूचना दी जा सकेगी
—शिकायत मिलने पर  100 मिनट में होगी कार्रवाई
—ऑडियो वीडियो करनी होगी सी विजिल पर अपलोड
—5 मिनट में अपलोडिंग की करनी होगी पुष्टि
—5 मिनट का समय रहेगा वीडियो अपलोड करने का
—अगले 2 मिनट में उड़नदस्ते को बताना होगा
—उड़नदस्ता 30 मिनट में देगा रिपोर्ट
—आरओ 50 मिनट में लगा एक्शन या बताएगा

क्या फायदा हो रहा है इससे-
—आमजन इस एप का इस्तेमाल कर सकते हैं
—कदाचार की घटना देखने के घटना की रिपोर्ट कर सकते हैं 
—और नागरिकों को शिकायत के लिए दौड़ नहीं लगानी पड़ेगी
—पीठासीन अधिकारी के कार्यालय की दौड़ नहीं लगानी पड़ेगी
—शिकायतकर्ता की पहचान गोपनीय रखी जाएगी
—एन्ड्रॉयड आधारित ‘सी विजिल’ एप कर सकते हैं डाउनलोड

कुछ उत्साही जिला निर्वाचन अधिकारियों यानी कलेक्टर्स ने अपने स्तर पर छोटा भीम और अन्य कार्टून चरित्रों के जरिए इस एप की शक्ति को दिखाने की कोशिश की है इससे अवेयरनेस में बढ़ोतरी भी हुई है इस नवाचार को निर्वाचन विभाग ने खासा सराहा है। सबसे अहम तथ्य यह है इस ऐप की लॉन्चिंग पहली बार की गई है और पहली बार में ही जिला कलेक्टर और आर ओ की ओर से तगड़ा रिस्पांस मिला है।

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in

जानिए गुलाब के पुष्पों के चमत्कारी उपायों के बारे में | Good Luck Tips

11:00 बजे की सुपर फास्ट खबरें
Big Fight Live | छिटकने लगी \'कलियां\' ! | 12 NOV, 2018
\'Face To Face\' With Divya Dutta, Film Actress and Model | Exclusive Interview
योगी के राम मंदिर बयान पर कांग्रेस का पलटवार
चुनावी नामांकन का क्या महत्व रहता है? किस अंक वाले को किस दिन नामांकन करना शुभ रहेगा?
नीमराणा के डाबड़वास गांव में फूड पॉइजनिंग, मरीजों की तादाद 800 से 1000 के बीच में
न्यायाधीश माथुर इलाहाबाद उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश नियुक्त