अपनी गर्दन पकड़कर टॉयलेट से रेंगते हुए बाहर आया था प्रद्युम्न, CCTV कैमरों में कैद हुआ था सच

Published Date 2017/09/14 01:21,Updated 2017/09/14 04:10, Written by- FirstIndia Correspondent

प्रद्युम्न मर्डर केस में गिरफ्तारी से बचने के लिए बॉम्बे हाई कोर्ट की शरण में गए पिंटो फैमली को थोड़ी राहत और मिली है| वहीं इस मामले की जांच में एसआईटी ने रेयान इंटरनेशनल स्कूल के सभी टीचिंग स्टाफ को पहली बार पूछताछ के लिए बुलाया है| सभी का क्रॉस वेरिफिकेशन भी किया जाएगा| पुलिस रेयान ग्रुप के हेडक्वार्टर में जाकर भी इस संबंध में जांच कर रही है| प्रद्युमन के पिता वरुण ठाकुर ने बॉम्बे हाई कोर्ट में पिंटो फैमली की अग्रिम जमानत याचिका का विरोध किया|

पिंटो फैमिली ने हरियाणा की संबंधित अदालत में अपना पक्ष रखे जाने तक गिरफ्तारी से राहत देने का अनुरोध किया है| उधर, बुधवार को इस मामले की जांच कर रही SIT आरोपी बस ड्राइवर अशोक कुमार के साथ मौका-ए-वारदात पर पहुंची| वहां पर क्राइम सीन रिक्रिएट किया गया| फोरेंसिक एक्सपर्ट की एक टीम ने विशेषज्ञों की मदद से बाथरूम से सबूत एकत्र किए हैं| आपको बता दे रेयान इंटरनेशनल स्कूल के सभी कैमरों की फुटेज को पुलिस ने जांच के लिए कब्जे में ले लिया था| सीसीटीवी फुटेज के अनुसार, रेयान इंटरनेशनल स्कूल की वो बस शुक्रवार की सुबह 7.40 पर स्कूल पहुंच गई थी, जिसमें कंडक्टर अशोक कुमार मौजूद था|

जब सभी बच्चे बस से उतरकर अपनी कक्षाओं में चले गए तो ड्राइवर परिसर के अंदर बस को पार्क करने के लिए आगे बढ़ता है| ठीक उसी समय, कंडक्टर अशोक स्कूल के मेनगेट से अंदर दाखिल होता है और सीधे उस टॉयलेट की तरफ बढ़ जाता है, जहां सात साल के मासूम छात्र का कत्ल किया गया था| सीसीटीवी फुटेज के मुताबिक सुबह 7.55 पर प्रद्युम्न स्कूल आता है| उसके पिता वरुण उसे और उसकी बहन को स्कूल के मेनगेट पर छोड़कर जाते हैं|

प्रद्युम्न की बहन अपनी कक्षा में चली जाती है जबकि प्रद्युम्न वॉशरूम में जाता है| टॉयलेट के पास लगे एक कैमरे की सीसीटीवी फुटेज में दिखाता है कि कंडक्टर अशोक और प्रद्युम्न एक के बाद एक करके टॉयलेट में दाखिल होते हैं| 7.55 और 8.10 के बीच में अशोक को बाथरूम से बाहर आते हुए देखा जा सकता है| इस दौरान फुटेज में गौर करने वाली बात ये है कि 7.55 से 8.10 के बीच कोई तीसरा शख्स टॉयलेट में जाता हुआ नहीं दिखता|

टॉयलेट से अशोक के बाहर चले जाने के कुछ पल बाद ही प्रद्युम्न एक हाथ से अपने गले को पकड़ कर बाहर की तरफ रेंगता हुआ दिखाई पड़ता है| फुटेज के मुताबिक इसके बाद वहां पहुंचने वाला पहला शख्स स्कूल माली होता है| जो टॉयलेट के बाहर फर्श पर पड़े खून से सने बच्चे को देखकर शोर मचाता है| उसकी आवाज सुनकर पास की कक्षाओं के कुछ टीचर निकलकर बाहर आते हैं और खून से सने प्रद्युम्न के आस-पास जमा हो जाते हैं|

इस हंगामे के बीच कंडक्टर अशोक दोबारा फुटेज में दिखने लगता है| वो आदमी प्रद्युम्न को उठाते हुए दिखता है, और फिर वो उसे एक टीचर की कार में डालते हुए दिखाई देता है| उसके बाद सात वर्षीय मासूम प्रद्युम्न को टीचर की कार से पास के एक अस्पताल में ले जाया गया था, लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी थी| डॉक्टरों ने वहां उसे मृत घोषित कर दिया था|

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

Stories You May be Interested in


Most Related Stories


-------Advertisement--------



-------Advertisement--------