मेघालय में सरकार बनाने का मौका नहीं मिलने को सीपी जोशी ने बताया लोकतंत्र के लिए दुर्भाग्य

Published Date 2018/03/07 05:53, Written by- Dinesh Kumar Dangi

जयपुर। मेघालय में हुए विधानसभा चुनावों के नतीजों में राज्य की सबसे पार्टी बनने के बाद भी कांग्रेस वहां पर सरकार नहीं बना पाई। ऐसे में गोवा और मणिपुर के बाद मेघालय में भी सरकार बनाने का मौका नहीं मिलने पर कांग्रेस महासचिव और मेघालय के इंचार्ज सीपी जोशी ने मेघालय के गर्वनर पर लोकतंत्र की परम्पराओें का निर्वहन नहीं करने का आरोप लगाया है।

जोशी ने कहा कि देश में कोई पहली बार संविधान के हिसाब से चुनाव नहीं हो रहे हैं। 1952 से चुनाव हो रहे हैं और इसमें एक पार्टी जीतती है तो दूसरी हारती है। हमारे संविधान ने और कोर्ट ने भी ये साफ निर्णय कर रखा है कि पहले मेज्योरिटी वाली पार्टी को गर्वनर सरकार बनाने के लिए बुलाते हैं। अगर ऐसा नहीं हो तो फिर सिंगल लारजेस्ट पार्टी को सरकार बनाने का मौका मिलता है, उसके बाद ही पोस्ट इलेक्शन अलायंस को मौका मिलता हैं।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस को मेघालय में उम्मीद थी कि उसे सरकार बनाने के लिए गर्वनर मौका देंगे, लेकिन मणिपुर और गोवा की तरह यहां भी गर्वनर ने कांग्रेस को मेघालय में सिंगल लारजेस्ट पार्टी होने के बावजूद मौका नहीं दिया। ये लोकतंत्र की स्वस्थ परम्पराओं के खिलाफ है। संवैधानिक पदों पर बैठे हुए लोगों का ये काम है कि लोकतंत्र की परम्पराओं का निर्वहन हो, लेकिन दुर्भाग्य से न तो गोवा में ऐसा हुआ और न मणिपुर में। इनके बावजूद अब मेघालय में भी ऐसा नहीं हुआ। हालांकि जोशी ने ये भी साफ किया है कि वो इस निर्णय के खिलाफ कोर्ट में नहीं जायेगे।

दूसरी पार्टी के नेताओं की मुर्तियां तोड़ना ठीक नहीं :
त्रिपूरा में लेनिन की मूर्ति तोड़ने पर देश में बवाल मचा हुआ है। कांग्रेस महासचिव और नॉर्थ ईस्ट के कांग्रेस इंचार्ज सीपी जोशी ने कहा कि लोकतत्र में चुनाव होते रहते हैं, जिसमें एक जीतता है तो दूसरा हारता है, लेकिन किसी पार्टी की जीत का मतलब ये नहीं होता कि वो हारने वाली पार्टी के नेताओं की मूर्तियां तोड़े। राजनीति और धर्म दोनों अलग-अलग होते हैं। नेताओं को संविधान की ही पालना करनी चाहिए। नेताओं को जनमत स्वीकार करना चाहिए और इस तरह की बातों से दूर रहना चाहिए।

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in


loading...

-------Advertisement--------



-------Advertisement--------