निराश पिता ने लिखा मुख्यमंत्री को पत्र, अपनी बच्ची को बचाने की लगाई गुहार

Published Date 2017/10/23 01:14, Written by- FirstIndia Correspondent

हनुमानगढ़| हनुमानगढ़ के भादरा में जहां चिडिय़ा गांधी गांव के युवक प्रदीप धायल ने मुख्यमंत्री वसुधंरा राजे को पत्र भेजकर उसकी 15 माह की बेटी मानवी धायल का दिल्ली या मुंबई के किसी बड़े हस्पताल में इलाज करवाने ने की मांग की हैं ताकि उसकी जान बच सके। आपको बता दे कि प्रदीप धायल का विवाह चार वर्ष पूर्व हुआ था और 7 जुलाई 2016 को उसकी पत्नि ने हिसार के चूडा़मणी हस्पताल में एक बच्ची को जन्म दिया तो परिवार में जश्न का माहौल था, परन्तु जब उन्होंने हिसार की मंगलम लेब मे बच्ची की कुछ आवश्यक जांच करवाई तो मालूम हुआ कि बच्ची के दिल मे छेद है और उसे माइक्रो सेफली जीका वायरस की बीमारी है। इससे परिवार की परेशानी बढ़ गई। 

बच्ची के पिता प्रदीप जयपुर के फोर्टिज हस्पताल में बच्ची को लेकर चिकित्सकों से मिले तो उनका कहना था कि दिल के छेद का ऑपरेशन हो सकता है परन्तु जीका वायरस का फिलहाल कोई इलाज संभव नही है और आमतौर पर इस बीमारी से ग्रस्त बच्चे दो साल से अधिक जीवित नही रहते है। हांलाकि प्रदीप ने जे के लोन हस्पताल में विशेषज्ञ डॉ. सीतारमण से भी इस बाबत मिलने का प्रयास किया परन्तु उसे समय नही दिया गया। भादरा विधायक संजीव बेनीवाल ने भी इन्हे मुख्यमंत्री कोष से मदद का आश्वासन दिया है। सभी तरफ से निराशा के बावजूद प्रदीप ने मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे से बालिका के बेहतर इलाज के लिए मदद की गुहार की है। चिड़िया गांधी के रहने वाले प्रदीप धायल शिक्षित बेरोजगार है और उनके पिता रघुवीर धायल की 20 बीघा बारानी भूमि पर वह और उनका छोटा भाई आश्रित है, जिससे घर खर्च भी मुश्किल से चलता है ऐसे में बच्ची मानवी का मंहगा इलाज कराना उनके लिए संभव नही है। 

प्रदीप धायल ने बताया कि बच्ची के जन्म के समय एक किलो वजन था इसके बाद छह किलो तक वजन हो गया परन्तु अब निरन्तर वजन घटता जा रहा है| वह केवल दूध और पानी पीती है ओर बढ़ भी नही सकती है तथा शरीर त्वचा भी खराब होने लगी है। उनका कहना है कि बैंको का छह लाख का कर्जा भरना बाकी है ऐसे में मंहगा इलाज उनके लिए कतई संभव नही है।

उन्होने बताया कि हाल ही में राजकीय चिकित्सालय मे लगे प. दीनदयाल निशक्त जन शिविर मे भी वह बच्ची को लेकर गए थे परन्तु वहां उपस्थित चिकित्सकों ने किसी प्रकार का संतोषजनक जवाब नही दिया। भादरा के ब्लॉक मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. राजेन्द्र भंवरिया ने बताया कि इस प्रकार का मामला उनके सामने नही आया है परन्तु मानवी का परिवार राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना से लाभांवित है तो इलाज का समस्त खर्च सरकार द्वारा वहन किया जायेगा जिसके लिए वह अपनी और से अभिशंशा करेगें।

 

 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in


loading...

-------Advertisement--------



-------Advertisement--------