अपनी मांगों के लिए किसानों ने एक बार फिर भरी हुंकार, बड़ी संख्या में पहुंचे उपखण्ड कार्यालय

Published Date 2017/10/26 12:24, Written by- FirstIndia Correspondent

राजसमंद। रेलमगरा उपखण्ड क्षेत्र में स्थित मातृकुण्डिया बांध के डूब क्षेत्र में आने वाले खेतों के प्रभावित काश्तकारों ने अपनी मांगों को मनवाने के लिए फिर से हुंकार भरी है। अपनी मांगों को लेकर बड़ी संख्या में काश्तकार उपखण्ड अधिकारी कार्यालय पहुंचे| यहां शांति पूर्ण तरीके से उपखण्ड अधिकारी को ज्ञापन सौंपकर अपनी मांगे मनवाने की मांग रखी।

किसान संघर्ष समिति के तत्वावधान में किसानों द्वारा सौंपे गए ज्ञापन में काश्तकारों ने बताया कि किसानों द्वारा पूर्व में किए गए आन्दोलन के बाद जिला स्तरीय सक्षम अधिकारियों ने प्रभावित खेतों का सर्वे कार्य कराने के बाद निर्धारित डीएलसी दर से तीन गुना अधिक राशि को मुआवजे के रूप में देने के लिए कार्यवाही शुरू करने का आश्वासन दिया गया, लेकिन इस क्षेत्र में प्रशासनिक अधिकारियों ने अब तक कोई कार्यवाही शुरू नही की है। 

साथ ही प्रभावित काश्तकारों को हिन्दुस्तान जिंक में रोजगार दिलाने की मांग पर भी जिला अधिकारियों ने जिंक प्रबंधन से वार्ता करने का आश्वासन दिया लेकिन इस ओर भी अभी तक कोई ध्यान नही दिया गया। मातृकुण्डिया बांध में भरे पानी को खाली करने की तिथि का निर्धारण भी नही किए जाने से दर्जनों खेतों में अभी तक भी पानी भरा हुआ है जिससे काश्तकार रबी फसलों की बुवाई से भी वंचित रह रहे है। काश्तकारों ने समय रहते समस्या का स्थाई समाधान नही होने की दशा में आन्दोलन को ओर तेज करने की चेतावनी भी दी है।

इससे पूर्व बांध के डूब क्षेत्र में आने वाले गिलूण्ड, कुण्डिया, कोलपुरा, टीलाखेड़ा, खुमाखेड़ा, धुलखेड़ा, जवासिया आदि गांवों के दर्जनों काश्तकार रेलमगरा के चामुण्डा माता मंदिर परिसर में एकत्रित हुए जहां बैठक का आयोजन कर आगामी रणनिती पर विस्तृत चर्चा की गई एवं बाद में जुलूस के रूप में काश्तकार उपखण्ड अधिकारी कार्यालय पहुंचे।

 


 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in


loading...

-------Advertisement--------



-------Advertisement--------