गूगल का डूडल: अनोखे अंदाज में दी स्वतंत्रता दिवस की बधाई

FirstIndia Correspondent Published Date 2018/08/15 08:30

नई दिल्ली। पूरा देश आज देश जश्न-ए-आजादी के रंग में रंगा हुआ है। लाल किले से लेकर देश का हर शहर आजादी की 72वीं वर्षगांठ मना रहा है। इस मौके पर सर्च इंजन गूगल ने भी अनोखे अंदाज में स्वतंत्रता दिवस की बधाई दी। भारत के 72वें स्वतंत्रता दिवस के मौके पर गूगल ने एक रंग-बिरंगा डूडल बनाया है। गूगल के होमपेज पर दिख रहे इस गूगल डूडल में देश की ट्रक आर्ट की झलक देखने को मिलती है। ट्रक आर्ट यानी वो कला जो देश की सड़कों पर चलने वाले वाहनों पर देखी जाती है।

स्वतंत्रता दिवस के मौके पर बनाए गए डूडल में भारत का राष्ट्रीय पक्षी यानी दो मोर हैं। जिन्हें प्यार और सौहार्द का संदेश देते हुए दिखाया गया है। उनके दोनों तरफ बंगाल टाइगर और एक हाथी है। इसके अलावा गूगलल डूल में देश का राष्ट्रीय फूल यानी कमल को भी खिलते हुए देखा जा सकता है। रंग-बिरंगे फूलों के साथ उगते हुए सूरज वाले इस डूडल में देश के राष्ट्रीय चिन्हों को देखा जा सकता है। गर्मियों में आने वाला फलों का राजा आम को भी गूगल डूडल में जगह मिली है।

इसके अलावा नींबू और मिर्च भी गूगल डूडल में दिख रहा है।  गूगल ने इस डूडल को देश की ट्रक आर्ट के लिए समर्पित किया है। गूगल ने इस बारे में कहा है, चार मिलियन स्क्वायर किलोमीटर में फैले राष्ट्र में लंबे समय से यह परंपरा रही है, जहां ट्रक चलाने वाले लोग ट्रकों पर मनमोहक फोक आर्ट के बीच रहते हैं ताकि महीनों तक अपने परिवारों से दूर रहने वाले लोग अपने मन को शांत रख सकें। 
 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in

दिलावर की \'भीष्म प्रतिज्ञा\' | Election Express

सचिन ने आदिवासियों को \'साधा\' | Election Express
सीकर में \'कमल\' और मजबूत | Election Express
RAS अफसरों की \'हुंकार\' ! | Election Express
मारवाड़ का \'कास्ट कार्ड\'! | Election Express
सांसद दुष्यंत सिंह पहुंचे झालावाड़ के पिड़ावा एसडीएम कार्यालय
जयपुर में अब कम्प्यूटर बनाएगा ड्राइविंग लाइसेंस
ग्रामीण गौरव पथ योजना, योजना ने बदली गांवों की तस्वीर