फसली बीमा रकम का भुगतान नहीं होने का मुद्दा गहराया 

Published Date 2018/06/26 09:48, Written by- FirstIndia Correspondent

भादरा(हनुमानगढ़)। ग्राम रामगढ़ में मंगलवार को 1200 किसानों के फसली बीमा रकम का भुगतान नहीं होने का मुद्दा गहरा गया। बीमा रकम के भुगतान न होने की बैंक गलती सामने आने पर पीडित किसान, अखिल भारतीय किसान सभा के जिला अध्यक्ष और किसान नेता कामरेड बलवान पूनिया के नेतृत्व मे रामगढ़ (नोहर) के एसबीआई बैंक का अनिश्चितकालीन घेराव शुरू कर धरने पर बैठ गये। 

कामरेड बलवान पूनियाँ ने किसानों की सभा को संबोधित करते हुए कहा कि बैंक ने 2017 सावणी फसल का प्रीमियम काट लिया, लेकिन आगे बीमा कंपनी को नहीं भेजा। इस कारण लगभग 1200 किसानों को 8 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है। जब तक किसानों के बीमा क्लेम की भरपाई नहीं होगी और रुपये किसान के खाते में नहीं आएगा, तब तक अखिल भारतीय किसान सभा के नेतृत्व में अनिश्चितकालीन आंदोलन जारी रहेगा। 

किसानों ने मानव श्रंखला बनाकर बैंक के चारों ओर का घेराव किया। किसानों की सभा को जिला परिषद सदस्य मगेज चोधरी, जिला सचिव विनोद स्वामी, जिला उपा अध्यक्ष छोटुराम गोदारा, कुलदीप भाम्भु, पूर्व सरपंच ओमप्रकाश सहु, मास्टर हनुमानप्रसाद शर्मा, पूर्व सरपंच धनपत नेहरा, जेपी लुणा, किसान सभा जिला सयुक्त सचिव रोहतास सोलंकी, पुर्व पंचायत समिति सदस्य ऋषिपाल कासनिया आदि ने सम्बोधित करते हुए कहा कि किसानों को समय रहते अपनी जागरूकता रखकर अपने साथ साथ कृषक समाज का भला कर सकते है। उन्होने बैंक प्रशासन की गलती को गंभीर बताया। 

बैंक के घेराव के चलते प्रशासन ने गोगामेडी थाना प्रभारी भूपसिंह सहारण मय पुलिस जाब्ते को मौके पर भेजा। वहीं पर उपखण्ड अधिकारी सैय्यद सिराजअली जैदी, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक भूपेन्द्रसिंह जाखड़, कृषि सहायक निदेशक बलवीर सिंह, एसबीआई हनुमानगढ़ के मुख्य प्रबन्धक ने मौके पर पहूंचकर किसान नेताओं से वार्ता शुरू कर दी। कामरेड बलवान पूनियाँ ने बताया कि रामगढ क्षेत्र के 1200 किसानों के सावणी फसल 2017 की बीमा राशि बैंक ने काटकर एग्रीकल्चर इंश्योरेंस कम्पनी को भिजवाई जबकि उक्त राशि बजाज एलायंस को भिजवाई जानी थी। दूसरी तरफ एग्रीकल्चर इंश्योरेंस कम्पनी ने बैंक शाखा को भेजी गई राशि वापस लौटा दी। इसके बाद बैंक ने प्रीमीयम राशि को बजाज एलायंस को भेजा। जिसने समय अवधि निकल जाने का कारण बताकर राशि वापस लौटा दी। बैंक की गलती के कारण किसानों को फसल खराबी के पेटे मिलने वाले 8 करोड़ रूपये का भुगतान नहीं हो सका। समाचार लिखे जाने तक दो बार ये समझौता वार्ता विफल हो चुकी है। किसानों का धरना व घेराव जारी है। 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in

loading...

-------Advertisement--------



-------Advertisement--------

25067