जानिए क्या है निपाह वायरस का पूरा सच, बरतें ये सावधानी 

Pawan Tailor Published Date 2018/05/23 07:01

नई दिल्ली। सबसे पहले दुनिया में 1998 में मलेशिया के कांपुंग सुंगई निपाहह में इस वायरस से प्रभावित होने का मामला सामने आया था। जांच में सामने आया था की चमगादड़ द्वारा खाए गए फल या किसी चीज से वहां के सुअरों में ये वायरस फैला जो बाद में इंसानों तक भी पहुँच गया। उस समय इस वायरस ने कई लोगो की जान ली थी। 

भारत में केरल के कोझिकोड में शुरू हुए निपाह वायरस से अब तक जिले में 11 लोगों की मौत हो चुकी है। निपाह वायरस इसलिए सबसे ज्यादा खतरनाक  है क्योंकि इसका आज तक कोई इलाज नहीं है। इसके उपचार के लिए कई दवाइयों का इस्तेमाल होता है, लेकिन वे भी अब तक कामयाब साबित नहीं हो सकी हैं। इस वायरस से प्रभावित व्यक्ति की जान बचने की संभावना काफी कम होती है। विश्व स्वास्थ्य संगठन की रिपोर्ट के अनुसार निपाह वायरस चमगादड़ की एक नस्ल में प्राकृतिक रूप से पाया जाता है। चमगादड़ के द्वारा खाए गए फल, उनके अपशिष्ट जैसी चीजों के संपर्क में आने पर यह वायरस किसी भी अन्य जीव या इंसान में फ़ैल सकता है और जानलेवा बीमारी का रूप ले लेता है। 

वायरस के लक्षण और बचाव 

निपाह सबसे ज्यादा दिमाग को प्रभावित करता है। निपाह वायरस से प्रभावित व्यक्ति में बुखार, सिरदर्द, चक्कर, सोचने में दिक्कत और मानसिक भ्रम जैसे लक्षण दिखाई देते हैं। ये वायरस इतना तेजी से फैलता है की 48 घंटों के अंदर ही व्यक्ति कोमा में जा सकता है। वक्त पर उपचार नहीं मिलने पर मरीज की मृत्यु भी हो सकती है। यह वायरस छूने से भी फैलता है ऐसे में मरीज से दूरी बनाए रखें। 

निपाह वायरस से बचने का एकमात्र तरीका है सही देखभाल। रिबावायरिन नामक दवाई वायरस के खिलाफ सबसे प्रभावी है।  इस वायरस से बचने के लिए फलों, खासकर खजूर खाने से बचना चाहिए। पेड़ से गिरे फलों को नहीं खाना चाहिए।  यह वायरस एक इंसान से दूसरे इंसान में फैलता है। संक्रमित जानवर खासकर सुअर को हमेशा अपने से दूर रखें। अगर आपको तेज बुखार हो तो अस्पताल जाएं। 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in

क्या है इस बार श्राद्ध की सही तिथि और तारीख़ ? | Good Luck Tips | 22 Sep 2018

राफेल पर राहुल गांधी का PM मोदी पर हमला
मानवेंद्र की स्वाभिमान रैली और सियासत !
कोटा में शक्ति केंद्र सम्मेलन में अमित शाह का संबोधन
Rajasthan Gaurav Yatra | अलवर, बानसूर में CM Vasundhara Raje का संबोधन
कोटा में शक्ति केंद्र सम्मेलन में अमित शाह का संबोधन
मां का बेरहम चेहरा, मासूम बेटे को बैट से पीटा
नन रेप केस : बिशप फ्रैंको मुलक्कल गिरफ्तार