प्रदेश में नई सौगात, एसएमएस अस्पताल से 'बोन ब्रिज इंप्लांट' की शुरूआत

Published Date 2018/07/04 04:39,Updated 2018/07/04 04:47, Written by- Vikas Sharma

जयपुर। राजस्थान में जन्म से कानों में विकृति के चलते बहरेपन के शिकार मासूम भी अब आम बच्चों की तरह से ही सुन सकेंगे। यह सब कुछ संभव होगा बोन ब्रिज इंप्लांट से, जिसकी शुरूआत राजस्थान के सबसे बड़े एसएमएस अस्पताल में बुधवार से की गई। अस्पताल के ईएनटी विभाग में आयोजित कोक्लीअर इंप्लांट सर्जरी कार्यशाला में यह एडवांस इंप्लांट किया गया।

अस्पताल ईएनटी विभाग के प्रोफेसर डॉ. पवन सिंघल ने बताया कि पांच बच्चों का ऑपरेशन करना तय किया गया है। ये ऑपरेशन विश्वप्रसिद्ध अहमदाबाद के डॉ. राजेश विश्वकर्मा के साथ एसएमएस अस्पताल की ईएनटी विभाग की टीम कर रही है। बोन ब्रिज इंप्लांट ऐसे बच्चों के लिए वरदान है, जिनके कानों में जन्मजात विकृति हो और सुनने की मशीन से भी आराम नहीं हो। मुख्यमंत्री सहायता कोष से भी 4 बच्चों के बहरेपन निवारण के लिए नि:शुल्क कोक्लीअर इंप्लांट ऑपरेशन किए जा रहे हैं।

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in

loading...

-------Advertisement--------



-------Advertisement--------

25823