विधायक रमेश मीणा ने की रेप मामले में किरोड़ी मीणा की गिरफ्तारी की मांग

Published Date 2017/09/27 10:58, Written by- FirstIndia Correspondent

जयपुर/करौली। राजपा विधायक डॉ. किरोड़ीलाल मीणा और उप नेता प्रतिपक्ष व सपोटरा विधायक रमेश मीणा के बीच पॉलिटिकल जंग एक बार फिर दिखाई देने लगी है। सपोटरा इलाके के लोगों की समस्याओं को लेकर डॉ. किरोड़ीलाल ने मंगलवार को करौली में जनसुनवाई की तो पलटवार में उपनेता प्रतिपक्ष व सपोटरा विधायक रमेश मीणा ने बुधवार को कांग्रेसजनों तथा इलाके के ग्रामीणों के साथ कलक्ट्रेट पर धरना दिया। इस दौरान आयोजित सभा में उन्होंने तथा कांग्रेस के अन्य नेताओं ने किरोड़ी पर जमकर हमला बोला। साथ ही भाजपा शासन में अपराध बढ़ने, जिले में विकास ठप्प होने तथा सपोटरा की समस्याओं की अनदेखी करने के आरोप लगाए गए।

धरनास्थल पर हुई सभा में किरोड़ी निशाने पर रहे। रमेश मीणा सहित अन्य वक्ताओं ने डॉ.किरोड़ी लाल पर लगे दुष्कर्म के मामले को उठाते हुए कहा कि इस मामले को राजनीतिक दबाव से दबा दिया गया है। पीडि़ता को न्याय नहीं मिल पा रहा है। उन्होंने अचरज जताया कि पीडि़ता के अदालत में धारा 164 में बयान दर्ज होने पर भी गिरफ्तारी नहीं हुई है। रमेश मीणा ने भाजपा सरकार पर डॉ. किरोड़ी के दबाव में काम करने का आरोप लगाया। उन्होंनेे डॉ. मीणा के हथियारों के लाइसेंस निरस्त करने तथा जिले को भयमुक्त बनाने की मुख्यमंत्री से मांग की।

गौरतलब है किरोड़ीलाल व सपोटरा विधायक रमेश मीणा के बीच राजनीतिक जंग काफी दिनों से चर्चाओं में है। वर्ष 2013 में मंडरायल इलाके के भांकरी गांव के कार्यक्रम के दौरान दोनों के बीच हुए विवाद में फायरिंग तक हुई थी। डॉ. मीणा पर लगाए गए दुष्कर्म के आरोप के बाद दोनों ने दिसम्बर-जनवरी माह में करौली में अलग-अलग रैली निकाली और सभा करके अपना शक्ति प्रदर्शन किया था। बीच-बीच में भी वे एक—दूसरे को लेकर तीखे कटाक्ष करते रहे। पिछले कुछ दिनों से ये मामला शांत हुआ था। अब एक बार फि र दोनों के बीच सियासी जंग छिड़ी है।

विधायक रमेश मीणा ने भाजपा के शासन में अपराध तथा भ्रष्टाचार बढ़ने के आरोप लगाए। उन्होंने कहा कि किसी विभाग में देख लो भ्रष्टाचार चरम पर पहुंचा है। भाजपा के नेता ही भ्रष्ट अफसरों व कार्मिकों को संरक्षण दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि सांसद मनोज राजोरिया तथा हिण्डौन विधायक राजकुमारी के बीच हुए विवाद से भाजपा के भ्रष्टाचार की परत खुलकर सामने आ गई। उन्होंने पुलिस, वन, खनिज विभाग के अधिकारियों पर ग्रामीणों को अकारण परेशान करने, उनसे लूट करने के आरोप लगाए गए।

रमेश मीणा ने कहा कि अवैध खनन व ओवरलोड रोकने के नाम पर पुलिस खुलेआम चौथ वसूली कर रही है। सपोटरा क्षेत्र के थानों में पुलिस का भ्रष्टाचार चरम पर है। जबकि पुलिस की सुस्ती से डांग में डकैत फि र से सिर उठाने लगे हैं। विधायक ने विद्युत निगम के अधीक्षण अभियंता पर निर्धनों से चौथवसूली तथा सरकार को गुमराह करने का आरोप जड़ा। रमेश मीणा प्रभारी मंत्री डॉ. जसवंत सिंह यादव के प्रभार वाले श्रम विभाग में भी जिले में भ्रष्टाचार चरम पर है।

धरने के बाद विधायक सहित अन्य कांग्रेसजनों ने मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन कलक्टर को सौंपा। ज्ञापन में किरोड़ीलाल की गिरफ्तारी, विद्युत निगम के अधीक्षण अभियंता, सपोटरा के बीईईओ तथा विकास अधिकारी का स्थानानतरण करने की मांग की गई। उन्होंने बताया कि अधिकारियों की उदासीनता से मनरेगा, डांग विकास तथा अन्य योजनाओं के काम बंद पड़े हैं। इलाके में बिजली, पानी, सड़क की समस्याओं का भी ज्ञापन में उल्लेख किया गया।

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in

loading...

-------Advertisement--------



-------Advertisement--------

17125