एमएसएमई उद्योग होंगे जेड पोर्टल पर पंजीकृत

Published Date 2018/06/13 07:39, Written by- Naresh Sharma

जयपुर। राज्य के एमएसएमई उद्योगों को ग्लोबल स्तर के मापदंडों पर खरा उतारने के लिए उद्योग विभाग व केन्द्र सरकार की भारतीय गुणवत्ता परिषद के बीच एक करार पर हस्ताक्षर हुए हैं। आज बुधवार को उद्योग विभाग में हुए एमओयू पर विभाग की ओर से आयुक्त कृृष्ण कुणाल और क्यूसीआई की और से सीनियर डायरेक्टर डॉ. ए. राजा ने एमओयू का आदान प्रदान किया। इस अवसर पर अतिरिक्त निदेशक उद्योग पीके जैन और क्यूसीआई के उपनिदेशक मोहित सिंह भी उपस्थित थे।

उद्योग आयुक्त कृृष्ण कुणाल ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का एमएसएमई उत्पादों की जेड रेकिंग गुणवत्ता पर जोर रहा है। इसमें उत्पादों की गुणवत्ता के साथ पर्यावरण सरंक्षण पर भी बल दिया गया है। उन्होंने बताया कि एमएसएमई उद्योगों के उत्पादों को अंतरराष्ट्रीय मापदंडों के अनुसार जीरो इफेक्ट जीरो डिफेक्ट रेटिंग पर लाने के लिए उद्योग विभाग व भारतीय गुणवत्ता परिषद परस्पर सहयोग से काम करते हुए साक्ष प्रयास करेंगे। 

कुणाल ने बताया कि राज्य के एमएसएमई उद्योगों का जेड पोर्टल पर पंजीयन किया जाएगा और इसके बाद उद्योगों की कार्यप्रणाली के अनुसार ब्रांज, सिल्वर, गोल्ड, डायमंड और प्लेनेटियम रेंक सेल्फ असेसमेंट के आधार पर प्राप्त हो सकेगी। उन्होंने बताया कि भारतीय गुणवत्ता परिषद के सहयोग से राज्य में जिला उद्योग केन्द्रों पर अधिकारियों व कार्मिकों के साथ ही उद्योगों को जेड रेंकिंग मापदण्डों के लिए प्रशिक्षण दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि असेसमेंट लागत की 80 से 85 प्रतिशत तक राशि का अनुदान रेंकिंग स्तर के अनुसार क्यूसीआई द्वारा दिया जाएगा।

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in


loading...

-------Advertisement--------



-------Advertisement--------