खेल बिगाड़ने के लिए कई मोहरे भी टिके हैं चुनावी मैदान में

Published Date 2018/01/16 06:14, Written by- Priyank Sharma

अजमेर। अजमेर में लोकसभा उपचुनाव के लिए आये नामांकन की स्थिति भी आज साफ हो गई है। नामांकन वापसी का आज अंतिम दिन था। तीन निर्दलीय उम्मीदवारों ने नामांकन वापस लिये हैं। खास बात यह है कि सत्ता विरोधी लहर के तहत तीनों निर्दलीय प्रत्याक्षियों ने कांग्रेस प्रत्याशी डॉ. रघु शर्मा के समर्थन में नाम वापस लिया है। स्कूटनी के बाद 26 प्रत्याक्षी मैदान में थे, मगर तीन प्रत्याशियों के नामांकन वापस लेने के बाद अब राजनीति समीकरण भी कुछ बदले हैं।

हालांकि अपने—अपने पक्ष मे नामांकन वापस करवाने में कांग्रेस ज्यादा सक्रिय नजर आई। वहीं भाजपा ने रणनीति के तहत अल्पसंख्यक समुदाय के 8 निर्दलीय प्रत्याशियों को मैदान में उतारा था। यह सभी निर्दलीय उम्मीदवार 8 विधानसभाओं से थे। इनमे एक का पर्चा खारिज हो गया था, जबकि एक ने आज नाम वापस ले लिया। 6 अल्पसंख्यक समुदाय के निर्दलीय उम्मीदवार कांग्रेस के हाथ नहीं लग पाए।

सूत्रों की मानें तो 6 उम्मीदवार ही अजमेर से बाहर भेज दिए गए। दरअसल, अल्पसंख्यक कांग्रेस का वोट बैंक है। लिहाजा, भाजपा ने अल्पसंख्यक समुदाय से जुड़े उम्मीदवार कांग्रेस के वोट काटने के लिए मैदान में उतारे थे। इधर, कांग्रेस ने भी रावत और जाट वोटों को काटने के लिए उम्मीदवार खड़े करवाए, जो भाजपा के हाथ नहीं लग पाए। रावत और जाट भाजपा का वोट बैंक माना जाता है।

कुल मिलाकर कहा जाए तो कांग्रेस और भाजपा जातिगत समीकरण साधने में लगी है। 23 उम्मीदवार मैदान में हैं। वहीं एक विकल्प मतदाताओं को नाटो का भी है। लिहाजा, वीवीपेट के साथ दो ईवीएम मशीनें हर बूथ सेंटर्स लगाने होगी। जिला निर्वाचन अधिकारी ने उम्मीदवारों को सिंबल बाट दिए हैं।

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in

loading...

-------Advertisement--------



-------Advertisement--------

19660