तीनों राज्यों में चुनाव से पहले दलित वोट का दांव खेलने के लिए भाजपा ने बनाया ये प्लान

Published Date 2018/05/19 10:22, Written by- Pawan Tailor

नई दिल्ली। दलित वोट बैंक का देश की राजनीति में हमेशा से ही महत्व रहा है। लेकिन अब दलित वोट बैंक से दूर माने जाने वाली भारतीय जनता पार्टी ने भी अपनी स्थिति मजबूत करने के लिए कमर कस ली है। साल के अंत में तीनों भाजपा शासित राज्यों राजस्थान,मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ में चुनाव होना है। इन चुनावों में दलित मतदाताओं की अहमियत को देखकर भाजपा  ने अपनी तैयारी शुरु कर दी है। 

संगठन और पार्टी स्तर पर खाली पड़े दलितों के लिए आरक्षित पदों को जल्दी से जल्दी भरने की कवायद शुरू की है। साथ ही दलितों की आबादी में मोहल्ला प्रमुख बनाकर हर घर तक पहुंच बनाने की कवायद की जा रही है। पिछले दिनों दलितों के घर खाना खाने के मामले में हुई किरकिरी से सीख लेते हुए इस बार बूथ और प्रान्त स्तर पर सहभोज,चौपाल व सामाजिक समरसता आयोजन करना तय किया जा रहा है। 

दरअसल भाजपा ने 2014 के लोकसभा चुनावों में ऐतिहासिक पूर्ण बहुमत मिलने के पीछे देश भर के लगभग 16.3 फीसदी दलितों की बड़ी जनसंख्या का वोट खुद को मिलने को बड़ा कारण  माना था। लेकिन हाल ही में एससी/एसटी एक्ट को लेकर सुप्रीम कोर्ट का डंडा चलने पर आरक्षण समाप्त करने के आरोप में 10 राज्यों में भड़की हिंसा और उस पर कांग्रेस की संविधान बचाओ मुहिम के तहत भाजपा की दलित विरोधी छवि को हवा देने की कोशिश ने पार्टी प्रबंधन को सचेत कर दिया है। भाजपा का इससे मानना है कि इससे उनके दलित वोट बैंक को जबरदस्त झटका लगा है। 

अगर हम बात साल के अंत में तीनों भाजपा शासित राज्यों में होने वाले चुनावों की करें तो राजस्थान में 17 फीसदी दलित है लेकिन अगर जाट, पिछड़े व अन्य अल्पसंख्यकों को मिला लिया जाए तो यह वोट बैंक बढ़कर 50 फीसदी हो जाता है।  वहीं अगर हम बात मध्यप्रदेश की करें तो वहां पर भी 230 सीटों में से 82 सीटों पर दलित वोट बैंक का बोलबाला है। यही स्थिति छत्तीसगढ़ में भी हैं, वहां पर करीब 32 फीसदी दलित और आदिवासी है जो की सरकार बनाने में अहम भूमिका निभाते है। 

इसी को ध्यान में रखते हुए भाजपा ने दलित वोट के मजबूत करने की कवायद तेजी से शुरू कर दी है। पार्टी का मानना है कि दलित ही एकमात्र ऐसा वोट बैंक है जो कि एक्शन पर तुरंत रिएक्शन देता है। साथ ही सबसे ज्यादा वोट भी दलित ही करते है। ऐसे में उन्हे वरीयता देना भाजपा की पहली प्राथमिकता होगी। 
 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in


loading...

-------Advertisement--------



-------Advertisement--------