प्रतापगढ़ में सैंकड़ों आदिवासियों ने हथियारों के साथ थाने पर बोला हमला

Published Date 2018/06/19 12:21, Written by- FirstIndia Correspondent

प्रतापगढ़। राजस्थान के प्रतापगढ़ में सैंकडो आदिवासियों ने हथियारों के साथ एक थाने में बड़ा हमला बोल दिया। आदिवासियों ने थाने में बुरी तरह तोड़फोड़ की, कम्प्युटर तोड़ दिए, थाने में खड़ी गाड़ियों के शीशे तोड़ दिए गए, मोटरसाइकिलों को तोड़-फोड दिया और फिर पुलिस बल पर भारी पथराव भी किया। इस बीच पूरा इलाका बंद हो गया। उसके बाद स्थिति पर नियंत्रण पाने के लिए राजस्थान के कई जिलों से पुलिस फ़ोर्स बुलानी पड़ी।  

दरअसल हुआ यूँ कि कल प्रतापगढ़ जिले के सालमगढ़ थाना क्षेत्र के बड़ी साखथली में 3000 लोगों की मौजूदगी में आदिवासी भील मीणा समाज सुधार समिति की बैठक चल रही थी। मीणा समाज की इस बैठक में एक नेता तोलाराम मीणा ने सवर्णों को लेकर भड़काऊ बयान दिए। बयान कुछ ऐसे थे कि समूहों में शत्रुता बढ़ सकती थी। इस पर पुलिस ने उस नेता को गिरफ्तार कर लिया। इसके बाद मामले ने अचानक ही तुल पकड़ लिया। कई गांवों से आदिवासी भील मीणा हथियार लेकर थाने पहुँच गए। लोगों ने सालमगढ़ थाने में एकाएक ही हमला बोल दिया।

आदिवासियों ने पुलिस कर्मियों को पीटना शुरू कर दिया, थाने में पथराव किया, एक पुलिस कर्मी से राइफल छीन ली, थाने में तोड़फोड़ कर दी, कंप्यूटर तोड़ दिए, गाड़ियों में भी जम कर तोड़ फोड की। इस पर पुलिस ने भी जवाबी कार्रवाई करते हुए लाठी चार्ज शुरू कर दिया, पुलिस ने आंसू गेस के गोले छोड़े और हवाई फायरिंग भी की। इस पर माहौल तनावपूर्ण हो गया। कस्बे में सारी दुकानें बंद हो गई।

हालात बिलकुल खराब होता देख कई जिलों से पुलिस बल बुलाया गया। स्पेशल फ़ोर्स के जवान भी यहाँ तैनात किये गए। लेकिन आदिवासियों ने उन्हें भी नहीं बक्शा। जगह-जगह आदिवासी पथराव का तांडव करते दिखे। ई गली मोहल्लों में आदिवासी पुलिस वालों की गाड़ियों पर पथराव करते हुए दिखाई दिए। इसमें भी कई पुलिस कर्मी चोटिल हो गए। इसके बाद स्थिति और बिगड गई। इधर एक घायल पुलिस कर्मी को अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

स्थिति नियंत्रण नहीं होती देख जिला कलेक्टर भंवरलाल मेहरा, अतिरिक्त जिला कलक्टर हेमेन्द्र नागर, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक रतनलाल भार्गव सालमगढ़ पहुंचे। प्रतापगढ़ एसपी IPS शिवराज मीणा के छुट्टी पर होने के चलते बासंवाडा जिले के एसपी IPS कालूराम रावत को यहाँ तैनात किया गया। दिन भर उपद्रव के बाद देर शाम पुलिस ने समाज के लोगों से समझाइश की और समाज द्वारा तय किये गए बिंदुओं पर सहमति बनने पर मामला शांत हुआ। लेकिन पुलिस फ़ोर्स इलाके में अब भी तैनात है।
 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in

loading...

-------Advertisement--------



-------Advertisement--------

24276