देश में जातिवाद का जहर खत्म करने के लिए गांवों में करना होगा विकास: PM मोदी

Published Date 2017/10/11 02:17, Written by- FirstIndia Correspondent

बुधवार को प्रधानमंत्री मोदी जनसंघ के बडे नेता नानाजी देशमुख की जयंती पर इंडियन एग्रिकल्चर रिसर्च इंस्टीट्यूट में आयोजित कार्यक्रम में पहुंचे| इस कार्यक्रम के दौरान पीएम मोदी देशभर से आए 10 हजार ग्रामीणों से मुलाकात की। कार्यक्रम में संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि शहर को गांवों के लिए मार्केट बनना चाहिए। पीएम मोदी ने कहा कि गांवों को शहर के बराबर खडा करना होगा, देश में जातिवाद का जहर खत्म करना होगा। साथ ही उन्हें आत्मनिर्भर करना जरुरी है। जिन राज्यों में ज्यादा गरीबी है वहां पर मनरेगा का काम कम है, लेकिन जहां पर गुड गवर्नेंस है वहां पर मनरेगा का काम ज्यादा है।

पीएम मोदी ने लोगों से अपील की दीवाली पर दिये गांव के कुम्हार से ही खरीदें। उन्होंने कहा कि 18000 गांव ऐसे थे जहां पर बिजली नहीं थी। मोदी ने कहा कि हमने 1000 दिन में इन गांवों में बिजली देने का बीडा उठाया और अब तक 15,000 गांवों में बिजली पहुंचा चुके हैं। साथ ही उन्होंने कहा कि हमारी सरकार का लक्ष्य है किसान की लागत कम करना और मुनाफा बढाना। हमारा लक्ष्य 2022 तक किसानों की आय को दोगुना करना है। इस मौके पर उन्होंने स्वच्छ भारत अभियान की बात भी की। उन्होंने कहा कि खुले में शौच के खिलाफ सरकार का कैंपेन काम कर रहा है और अब गांवों में शौचालय का नाम इज्जतघर हो गया है। पीएम मोदी ने कहा कि सरकार हर योजना की समीक्षा कर रही है।

पीएम ने कहा, 'जब भ्रष्टाचार के खिलाफ जयप्रकाश जी जंग लड़ रहे थे तो दिल्ली की सल्तनत में खलबली मच गयी। उन्हें रोकने के लिए षड्यंत्र होते थे। पटना के एक सार्वजनिक कार्यक्रम में जेपी पर हमला हुआ। उनके बगल में नानाजी देशमुख खड़े थे। नानाजी ने अपने हाथों पर मृत्युदंड के रूप में आए प्रहार को झेल लिया। हाथ की हड्डियां टूट गई। वो ऐसी घटना थी कि देश का ध्यान नानाजी देशमुख की तरफ गया।'

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

Stories You May be Interested in


Most Related Stories


-------Advertisement--------



-------Advertisement--------