रोशन होने लगी है रणथंभोर की वन चौकियां

Published Date 2018/05/30 10:30, Written by- FirstIndia Correspondent

रणथंभोर। विश्व के पर्यटन मानचित्र पर रणथंभोर नेशनल पार्क का नाम स्वर्णिम अक्षरो मे अंकित है। सात समंदर पार से सैलानी बाघों की एक झलक निहारने यहां आते है। लेकिन खास बात ये कि जंगल से जुड़े लोगों की सुविधाओं के बारे मे यहां बरसों से किसी ने नहीँ सोचा था। लेकिन अब समय के साथ उन लोगों की सुख सुविधाओं और जरूरतों के बारे मे वन महकमा महत्वपूर्ण क़दम उठा रहा है । इस कारण अब जंगल मे बड़े आमूलचूल बदलाव आ रहे है। यह बहुत बड़ी बात है कि लगभग 45 सालों बाद रणथंभोर की चौकिया रात के घनघोर अंधियारे को चीरकर रोशन होने लगी है । 

रणथंभोर नेशनल पार्क ने अब तक पर्यटको से होने वाली आय के सारे रिकार्ड तोड़ दिए है। पिछले दो सालों मे पर्यटको के कारण विभाग ने रिकार्ड तोड़ राजस्व आय अर्जित की है । लेकिन कुछ पहलू वो है जो जानना बेहद आवश्यक है। रणथंभोर नेशनल पार्क मे शायद आपको जानकारी ना हो ,हम आपको बता दे समूचे जंगल मे लगभग 65 वन चौकिया है। रणथंभोर नेशनल पार्क को 45 वर्ष पूर्व टाईगर रिजर्व घोषित किया गया था। लेकिन अभाव की बात करे तो सबसे बड़ी बात ये है जंगल की चौकियों पर रोशनी की व्यवस्था के नाम पर लालटेन हुआ करती थी । 

समय बहुत तेजी से गुजरा लेकिन चौकियों पर भौतिक सुविधाएँ नहीँ बदली। जो लोग वन और वन्य जीवों को बचाने मे महत्वपूर्ण कड़ी माने जाते है ,वे वर्षों से समस्याओं से जुझते रहे। लेकिन अब समय के साथ उनके दिन बदलने लगे है। वन महकमे ने जंगल की प्रत्येक चौकियों पर सोलर प्लांट लगाने का बीड़ा उठा लिया है। इससे अँधेरे के आगोश मे बरसों से अभावग्रस्त पड़ी चोकिया रोशन होने लगी है। वहीँ चौकियों पर रहने वाले फोरेस्ट गार्ड के चेहरों पर खुशियाँ देखने को मिल रही है। ये बदलाव भी पर्यटको की रिकार्ड तोड़ आय से ही सम्भव हो रहे है।
 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in


loading...

-------Advertisement--------



-------Advertisement--------