संस्थान की लापरवाही, विधार्थी पर पड़ रही भारी

Published Date 2017/08/12 12:51, Written by- FirstIndia Correspondent
+1
+1

जैसलमेर (पोकरण) | नकल हो या लापरवाही करने जैसे मामलों में सुर्खियों में रहने वाले प्रदेश के कई शिक्षण संस्थान व ट्रेनिंग सेंटर सुर्खियों में आते लेकिन पोकरण की सरकारी औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान ने छात्र को रोल नंबर गलत देकर शिक्षा के मंदिर में साजिश रचकर विधार्थी के भविष्य के साथ खिलवाड़ करने का मामला सामने आया है। पीड़ित विधार्थी ने सरकार ने निष्पक्ष जांच करवाकर न्याय दिलाने कि मांग की है वहीं दोषियों के खिलाफ कठोर कार्रवाई करने कि मांग की।

जी हां आज एक ऐसे राजकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान प्रशासन की बड़ी लापरवाही या साजिश का खुलासा कर रही जिसमें संस्थान के प्रबंधक कमेटी पर कई गंभीर सवाल खड़े हो रहे हैं प्रशासन जानबूझकर साजिश रचकर विधार्थी के भविष्य के साथ खिलवाड़ कर रहा या वाक्य लापरवाही हैं? विधार्थी को परीक्षा में रोल नंबर गलत देकर पेपर करवा दिया जैसा चौंकाने वाला मामला सामने आया है। ईटीवी टीम के पास पहुंच राजकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान पोकरण में फीडर कोर्स कर रहे विधार्थी ललित माली ने अपनी पूरी पीड़ा सूनाई जिसमें पूर्णतः सरकारी संस्थान की लापरवाही सामने आई व ईटीवी टीम ने समूह अनुदेशक से सवाल पूछा तो स्वीकार कर दिया - रोल नंबर गलत अंकित करवा दिए मानवीय भूल हो गई।

विधार्थी ललित माली ने बताया कि मेरे राजकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान पोकरण में प्रथम वर्ष के दूसरे सेमेस्टर की 1 अगस्त को परीक्षा थी जिसमें संस्थान प्रशासन ने जानबूझकर रोल नंबर 0016808080413 गलत दे दिए और परीक्षा पेपर में अंकित करवाकर पेपर करवाया दिया। दूसरी परीक्षा 3 अगस्त को पेपर देने सेंटर पहुंचा तो रोल नंबर 0016808016413 अलग ही दिए जो सहीं थे लेकिन जब मैंने पिछले पेपर में गलत रोल नंबर देने विरोध किया तो इंचार्ज ने कहां- मानवीय भूल के कारण रोल नंबर गलत दे दिए गए थे।

गौरतलब है कि छात्र के फीडर कोर्स के प्रथम वर्ष के प्रथम सेमेस्टर की परीक्षा जैसलमेर थी 2 फरवरी 2017 को पेपर देने के बावजूद संस्थान प्रशासन ने गैर हाजिर बताकर फैल कर दिया जिसका सप्लीमेंटरी या बैक परीक्षा 1 अगस्त को पोकरण में थी जिसमें भी रोल नंबर गलत अंकित करवाकर परीक्षा में गैर हाजिर बताकर फैल करने की साजिश रची गई हैं या दूसरे विधार्थी के रोल नंबर देकर विधार्थी ललित माली से पेपर करवाने जैसे कई सवाल खड़े होकर सरकारी संस्थान को कठघरे में खड़ा कर रहे हैं|

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

Stories You May be Interested in


Most Related Stories


-------Advertisement--------



-------Advertisement--------