मानवता शर्मसार, घंटों तक पड़ा रहा दरगाह के आगे लावारिस का शव

Published Date 2018/07/07 05:56, Written by- FirstIndia Correspondent

अजमेर। अजमेर में सूफी संत ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती के बाबू शरीफ गेट नंमर 2 के ठीक सामने शुक्रवार को जो कुछ हुआ उससे मानवता शर्मशार हो गई। एक लावारिस शव घंटों पड़ा रहा लेकिन किसी ने उसकी सुध तक नहीं ली। हैरानी की बात तो यह रही कि गेट पर  मौजूद पुलिस कर्मियों ने भी अपनी आंखें फेर ली। पास ही दरगाह कमेटी का आफिस है जहां पर दरगाह के कमेटी के नुमाइंदे हर समय मौजूद रहते हैं। उन्होंने भी शव को नजर अंदाज कर दिया। हद तो तब हो गई जब तीन मासूम बच्चों ने शव को उठाने की कोशिश की और धीरे धीरे दरगाह थाने की ओर लेकर चल दिए। यह नजारा सब देखते रहे लेकिन कोई भी मदद के लिए आगे नहीं आया। 

बाबू शरीफ गेट नंमर 2 के सामने एक अज्ञात यवुक का शव पडा हुआ था। घंटों यहीं पर पड़ा रहा। जबकि इस गेट पर ही राजस्थान पुलिस के सिपाहियों की हर समय ड्यूटी रहती है। उस समय में पुलिस के जवान तैनात थे, लेकिन उन्होंने गेट के बाहर पडे शव को देखना भी मुनासिब नहीं समझा। इस गेट से हजारों लोगों का आना जाना लगा रहता है। हर कोई बच कर निकलता रहा। यह सब कुछ नजरा तीन मासूम देखते रहे। उनसे रहा नहीं गया। अपने छोटे छोटे नन्हें नन्हें हाथों से शव को उठाने का प्रयास किया। जहां तक उठाकर चल सकते थे लेकर चलते रहे और जहां थक गए वहां पर शव सडक पर रख दिया। धीरे धीरे शव को मासूम दरगाह थाने लेकर पहुंच गए। पुलिस ने शव कब्जे में लेकर जेएलएन अस्पताल के चीरघर में रखवा दिया। दरगाह के खादिम पीर मियां चिश्ती ने आरोप लगाया कि पुलिस कर्मी संवेदनहीन हो गए और दरगाह कमेटी के नुमाइंदों ने भी शव की सुध नहीं ली। यह घटना शर्मनाक है। 
 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in

loading...

-------Advertisement--------



-------Advertisement--------

26179