अद्भुत किंतु सत्य : 80 किलो की इस फुटबॉल से हजारों खिलाड़ी एक साथ खेलते हैं मैच

Ravish Tailor Published Date 2018/01/15 03:32

टोंक। राजस्थान में टोंक जिले के आंवा में गोपाल चौक पर हर साल की तरह इस बार भी मकर सक्रांति पर 80 किलोग्राम की फुटबॉल से खेले जाने वाला दड़ा खेल खेला गया। अकाल-सुकाल की मान्यताओं वाला खेल अंत मे गोपाल चोक पर ही दड़ी के रहने पर संम्पन हुआ, जो इस बात का प्रतीक माना जाता है कि आने वाला साल सामान्य रहेगा।

दरअसल, आंवा में रियासत काल से खेले जाने वाला यह खेल दड़ा के नाम से जाना जाता है। इस खेल को हर साल मकर संकान्ति के दिन खेला जाता है, जिसको करीब दर्जनभर गांवों के हजारों खिलाड़ी एक साथ खेलते हैं। मान्यता है कि इसी खेल से अकाल-सुकाल का फैसला भी होता है।

टांट और पत्थरों से फुटबॉल के आकार में बनाए जाने वाले 80 किलो की गेंद से खेले जाने वाला यह खेल अद्दभुत रहा। भले ही इस बार पिछले सालों की अपेक्षा भीड़ कुछ कम रही, लेकिन खेल का रोमांच हर बार की तरह बरकरार रहा। गोपाल चौक पर चारों ओर छतों पर महिलाओं—पुरुषों की भीड़ अपने अपने पक्ष का मनोबल बढ़ाती नजर आई। खेल की शुरुआत राजपरिवार के सदस्यों में दड़े को लात मारकर की गई और कुछ पल खेल रुकने के बाद फिर शुरू हुआ, जो रोमांचक होने के साथ ही हजारों की भीड़ में सौहार्द के लिए भी जाना जाता है।

इस खेल को खेलने वाले खिलाडियों की संख्या भी हजारों में होती है। खेल में गांव के ही दो दरवाजों को गोल पोस्ट माना जाता है, इसे खेलने के लिए यहां आस-पास के करीबन 12 गांवों के लोग आते हैं। वहीं देखने के लिये टोंक के बाहर से भी कई लोग पहुंचते हैं। सक्रांति पर यह खेल बड़े हर्षोल्लास से खेला गया, जिसमें हजारों खिलड़ियों ने दड़े के खेल मे हिस्सा लिया। इसमे आस-पास के गांवों के हिन्दू-मुस्लिम भाईयों ने भाग लिया।

इस बार पहली बार देखने को मिला कि इसे खेलने के लिए हजारों की तादाद में जुटने वाली भीड़ खेल शुरू होने के समय देखने को नहीं मिली, जो बाद में बढ़ती चली गई। कुल मिलाकर परम्परा और जोश का यह खेल आज फिर से सौहार्द व हर्ष के माहौल के साथ आंवा गांव में खेला गया।

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in

हज यात्रा 2018 का समापन

देश विदेश की बड़ी खबरें फटाफट अंदाज़ में | India 360
जानिए क्या है जीका वायरस
राजधानी में जीका वाइरस की दस्तक पर केंद्र में \'खलबली\'
मोहर्रम के अगले दिन ताला गांव में झगड़ा, चली लाठियां और सरिये
क्या आप पैसों की समस्याओं से मुक्ति पाना चाहते हैं ,क्या आप नौकरी में प्रमोशन चाहते हैं
कैसे आर्थिक तंगी से निजात पायी जाए, जानिए आर्थिक स्थिति सुधारने के उपाय | Good Luck Tips
दागी नेताओं पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला, नेताओं पर चार्जशीट के आधार पर कार्रवाई नहीं