बाघों की शानदार साइटिंग पर्यटकों के लिए बनी आकर्षण का केन्द्र

Published Date 2018/06/23 02:20, Written by- FirstIndia Correspondent

सवाई माधोपुर। रणथंभौर नेशनल पार्क बाघों की अठखेलियों के लिए देश में ही नही विश्वस्तर पर अपनी अलग पहचान रखता है। रणथंभौर बाघ अभ्यारण्य में बाघों के साथ साथ पैंथर,स्लोथ बियर के स्वच्छन्द विचरण का जो नजारा रणथंभौर में देखने को मिलता है शायद ही दुनिया में कही मिलता हो। रणथंभौर नेशनल पार्क में गर्मी के चलते अधिंकाश पेड़ों के पत्ते, झाड़ियां एवं घास सूख चुके होते है। जिसकी वजह से दूर से ही वन्यजीवो को देख पाना आसान हो जाता है। पानी की कमी के चलते अधिकांश वन्यजीव पोखर एवं बनाये गये गड्ढों के पास ही बैठकर गर्मी से बचने का जतन करते रहते हैं यही वजह है कि इन दिनों रणथंभौर नेशनल पार्क में हो रही बाघों की शानदार साइटिंग पर्यटकों के आकर्षण का केन्द्र बनी हुई है। 

जंगल में बाघों की साइटिंग होते ही सैलानियों के चेहरों पर एक अलग ही चमक दिखाई देती है। रणथंभौर नेशनल पार्क के जोन न0 2, 4 और 5 पर लगातार हो रही बाघों की साइटिंग से वन्य जीव प्रेमियों एवं पर्यटकों को खुश करने में कोई कसर नही छोडी। वहीं जोन 1, 2 व तीन अपने आप में प्रमुख जोन माने जाते है। टाइगरों की बात करे टी 39 एवं उसके दो शावक, बाघिन कृष्णा एवं उसके तीन शावक साथ ही  ऐरोहेउ बाघिन, लाइटिंनिंग आदि ने पर्यटकों को रिझाने मे कोई कसर नही छोड रही है। बाघों का वाहनो के पास से निकलकर रास्ते पर बेखौफ विचरण करना दर्शकों को एक अलग की रोमांच कर देने वाला होता है । 

इन दिनेा स्लोथ बियर भी पर्यटकों को रिझाने में कोई कसर नही छोड रहे है रणथंभौर पार्क में लगातार भालुओ की बढ़ती संख्या और साइटिंग से पर्यटक खासा रोंमांचित दिखाई दे रहे हैं। रणथंभौर नेशनल पार्क में बढ़ रही भालुओ की संख्या वन प्रशासन एवं वन्यजीव प्रेमियो के लिए अलग से खुशी मिलने के समान है। इन दिनो हो रही अच्छी साइटिंग से गाइड एवं वाहन चालको के साथ वन विभाग के कर्मचारी एंव अधिकारी भी काफी खुश नजर आ रहे है। लगातार हो रही शानदार बाघों की साइटिंग से वन विभाग को अच्छा राजस्व प्राप्त हो रहा है। साथ ही वन्यजीव प्रेमी भी खुश होकर लौट रहे हैं। 

रणथंभौर नेशनल पार्क इस सत्र के समापन की ओर चल रहा है। 30 जून से तीन माह के लिए पार्क भ्रमण पर बन्द कर दिया जाता है। ऐसे में आखिरी समय में पयर्टकों की संख्या में भी इजाफा हो रहा है। 
 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in

loading...

-------Advertisement--------



-------Advertisement--------

24682