मोक्ष पाने के लिए पिछले 12 साल से 'अग्नि तपस्या' कर रहा एक साधु

FirstIndia Correspondent Published Date 2018/05/22 03:51

धौलपुर। धौलपुर जिले के सरमथुरा उपखंड के चंद्रावली गांव में एक साधु पिछले 12 वर्षों से जंगल में जल—अग्नि और खड़ेश्वरी को लेकर तपस्या की हट कर रहा है। साधु की मंशा है कि उसे से जन्म—मरण के फेर से से मुक्ति मिल जाए। सीधे अर्थों में शास्त्रों के अनुसार उसे मोक्ष प्राप्त हो जाए, इसको लेकर वह लगातार घोर तपस्या में लीन है।

भीषण गर्मी के बीच इस साधु की अग्नि तपस्या को देखने के लिए ग्रामीण महिला पुरुष और बच्चों का सैलाब तपस्थल पर उमड़ रहा है। लोग इस साधु के दर्शन करने के साथ परिक्रमा लगा रहे हैं। साधु दामोदर दास के अनुसार वे जन्म और मरण से मुक्ति चाहते हैं, जिसको लेकर वे पिछले 12 वर्षों से तपस्या कर रहे हैं। इसकी शुरुआत उन्होंने हाजीपुर से की थी, जिसके बाद खरेरा, खुआ का तालाब, ददरौनी, मानपुरा इंदौरा सहित कई स्थानों पर तपस्या कर चुके हैं और वर्तमान में सरमथुरा के चंद्रावली में 40 दिन का अग्नि तप कर रहे हैं।

साधु दामोदर दास के अनुसार, वे गर्मी में अग्नि, वर्षा में खड़ेसरी और सर्दी में जल के बीच तपस्या करते हैं। 45 डिग्री के तापमान पर भीषण गर्मी में तपस्या कर रहे इस बाबा की तपस्या देख भक्ति में अंधे ग्रामीण मीलों दूर से आकर पुण्य कमाने का प्रयास कर रहे हैं, जबकि हैरत की बात ये है कि स्थानीय लोगों को इस अंधविश्वास की भनक तक नहीं है।

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in

अष्टमी और नवमी के दिन किया जाने वाला कन्या पूजन किस विधि के द्वारा किया जाये ?

Big Fight Live | शर्तों के मेह\'मान\' ! | 16 OCT, 2018
रामपाल की सजा का ऐलान, मरते दम तक रहना होगा जेल में
रामपाल को हत्या और बंधक बनाने के मामले में आजीवन कारावास की सजा
अब इस नाम से जाना जायेगा इलाहाबाद, कैबिनेट में मिली मंजूरी
जानिए कैसे माँ की कृपा से रखे अपने आप को रोग मुक्त | Good Luck Tips
कोटा की रहने वाली मॉडल मानसी दिक्षित की मुंबई में हत्या
पूर्व राष्ट्रपति मिसाइल मैन एपीजे अब्दुल कलाम का आज ही के दिन हुआ था जन्म