रावतसर में चिकित्सा सुविधा भगवान भरोसे 

FirstIndia Correspondent Published Date 2018/06/30 08:26

रावतसर (हनुमानगढ़)। एक ओर जहां राज्य सरकार दूर दराज के ग्रामीण अंचल में आमजन को सहज चिकित्सा सुविधा उपलब्ध करवाने के लिए दृढ़ संकल्पित है। वहीं विभाग के ही नुमाइंदे सरकार की योजनाओं को फेल करने पर तुले है।

ऐसा ही नजारा आज रावतसर ब्लॉक के चक 4 डीडब्ल्यूएम में देखने को मिला। यहां ग्रामीणों को चिकित्सा सुविधा उपलब्ध करवाने के लिए विभाग ने 2 एएनएम नियुक्त कर रखी है, लेकिन दोनों ही आज बिना किसी अवकाश और विभाग को सूचना दिए सब सेंटर से नदारद मिली। सब सेंटर पर मिला तो सिर्फ मुंह चिढ़ाता ताला। ये हाल ब्लॉक के सिर्फ इसी सेंटर का नही बल्कि कई सेंटरों का भी है।

ग्रामीणों से पूछने पर पता चला कि, "आज सुबह से ही सेंटर पर कोई नहीं आया, वैसे तो विभाग ने सर्दियों और गर्मियों के लिए सेंटर खोलने का समय निर्धारित कर रखा है,जिसके हिसाब से सेंटर सुबह और शाम दो पारियों में खुलना चाहिए, लेकिन सच्चाई बिल्कुल इसके विपरीत है या तो सेंटर खुलते ही नही अगर कोई खुलता है तो वो शाम के वक्त नहीं खुलता। ऐसे में ग्रामीण क्षेत्र के लोगों को सही वक्त पर चिकित्सा सुविधा उपलब्ध नहीं हो पाती जिससे उन्हें लंबी दूरी तय कर कस्बे के राजकीय चिकित्सालय में इलाज के लिए आना पड़ता है।"

वहीं दोनों एएनएम के सब सेंटर पर नहीं मिलने के बाद बीसीएमओ डॉक्टर गौरी शंकर व सीएचसी प्रभारी डॉक्टर सुभाष भिदासरा को अवगत करवाया गया, जिस पर दोनों ने कहा कि सब सेंटर पर एएनएम का उपलब्ध नहीं होना कार्य के प्रति लापरवाही है, इससे संबंधित के खिलाफ कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in

चुनावी यात्रा : कैसा है नीम का थाना का सियासी मिजाज ?

India vs Pakistan, Asia Cup 2018 at Dubai | एशिया कप, भारत vs पाकिस्तान
RCA में घमासान, एडहॉक कमेटी पर प्रेस कॉन्फ्रेंस
केरल नन रेप केस: आरोपी बिशप से आज क्राइम ब्रांच के दफ्तर में होगी पूछताछ
भीमा कोरेगांव: SC में याचिकाकर्ता बोले- बिना तथ्यों के हुई गिरफ्तारी
राफेल डील में अनियमितता के आरोप, CAG में शिकायत लेकर पहुंची कांग्रेस
हैदराबाद: 62 साल के पति ने 29 साल की पत्नी को व्हाट्सएप पर दिया तलाक
जानिए ट्रिपल तलाक क्या है और कोर्ट ने क्या फैसला दिया है