उधर जीत के लिए जोर लगा रही कांग्रेस, इधर कायकर्ता कर रहे आपसी जोर-आजमाइश

Published Date 2018/06/25 01:50, Written by- FirstIndia Correspondent

जालौर (लूणाराम दर्जी)। जालौर में पिछले विधानसभा चुनावों में पांच विधायक की सीटों में से चार विधायक की सीटों पर भाजपा का कब्जा था, वहीं एक सीट पर कांग्रेस जीत पाई थी। ऐसे में अब कांग्रेस बूथ को मजबूत कर सत्ता वापसी की कवायत कर रही है, लेकिन चुनाव के 6 महीने पहले ही जिले में कांग्रेस ने पार्टी के अंदर ही विवाद शुरू कर दिया है, जो चुनावों में कांग्रेस के लिए एक बड़ा संकट साबित हो सकता है। देखिए, फर्स्ट इंडिया न्यूज़ की स्पेशल रिपोर्ट...

जालौर में कांग्रेस ने विधानसभा चुनाव को लेकर क्षेत्र के दौरे शुरू कर दिए हैं। वहीं विधानसभा चुनावों का कांग्रेस ने बिगुल बजाते हुए विधानसभा क्षेत्र की गोपनीय रिपोर्ट भी तैयार करना भी शुरू कर दिया, जिसको लेकर विधानसभा स्तर पर दौरे के कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं। 'मेरा बूथ मेरा गौरव' कार्यक्रम के जरिए कांग्रेस बूथ को मजबूत कर प्रदेश में सत्ता वापसी करना चाहती है। सीधे तौर पर कांग्रेस का एक्शन प्लान है कि बूथ पर बैठे कार्यकर्ता जब मजबूत होगा, तो कांग्रेस को सत्ता वापसी में बड़ी दिक्कत नहीं होगी, लेकिन 6 महीने पहले पर्यवेक्षक के जालोर जिले की पांचों विधानसभा में किए गए दौरों से पार्टी में जमकर फूट सामने आ रही है।

नेताओं की आपसी फूट कांग्रेस के लिए एक बड़ा संकट बन सकती है, जिससे निपटने के लिए कांग्रेस को कड़ी मशक्कत करनी पड़ सकती है। इतना ही नहीं, आपसी विवाद कांग्रेस की नैया जालोर में डूबा सकता है। आपसी फूट को दूर करने के लिए कांग्रेस का अभी तो कोई प्लान नजर नहीं आता, लेकिन दौरों से एक रिपोर्ट जरूर तैयार की जा रही है, जिसे दिल्ली भेजा जाएगा। जिले में कांग्रेस से किसको टिकट मिलेगा, आगे क्या रणनीति रहेगी, इसका रोड मैप उसी रिपोर्ट के आधार पर तय होगा।

जालौर में कांग्रेस भले ही पांचों विधानसभा में बूथ मजबूत कर सत्ता हासिल करने के दावे कर रही हो, लेकिन पर्यवेक्षक के दौरे के दौरान सांचौर में जमकर हंगामा और हाथापाई तक नौबत आ गई। रानीवाड़ा में जमकर विरोध और खुलकर फूट सामने आई। भीनमाल में पर्यवेक्षक की बैठक में कार्यकर्ताओं ने जिलाध्यक्ष समरजीत सिंह के संबोधन के दौरान नारे लगाकर विरोध जताया। बैठक के दौरान जिलाध्यक्ष की जबान फिसल गई एक कार्यकर्ता को जूते मारने का कह दिया, जिससे हंगामा हुआ। दोनों गुटों के कार्यकर्ता आक्रोश की स्थिति में नजर आये।

कांग्रेस में पर्यवेक्षक के दौरे से नेताओं का आपसी झगड़ा खुलकर सामने आया और यह आपसी झगड़ा पार्टी के लिए बड़ा संकट है, जिससे उबरने के लिए कांग्रेस को बड़ी मशक्कत करनी पड़ेगी। कांग्रेस नेताओं के आपसी झगड़े को कंट्रोल नहीं कर पाई तो पिछले चुनावों की तरह इस बार भी कांग्रेस की नैया जिले में डूब जाएगी।

जिले में कांग्रेस की स्थिति :
सांचौर विधानसभा :
— पर्यवेक्षक के दौरे के दौरान जमकर हंगामा, हाथापाई तक हुई।
— सांचौर विधायक सुखराम के धरातल पर किए काम की राहुल गांधी तक तारीफ कर चुके 
— मेरा बूथ मेरा गौरव कार्यक्रम भी सफल आयोजित, लेकिन पूर्व विधायक हीरालाल भी लगा रहे पूरा दमखम।
— पूर्व विधायक के पुत्र जयंती विश्नोई भी टिकट की दौड़ में।
— पीसीसी सदस्य रहे मोहन कुमार विश्नोई की पत्नी रमिया विश्नोई भी टिकट की दौड़ में

रानीवाड़ा विधानसभा :
— पर्यवेक्षक के दौरे के दौरान खुलकर विरोध, हंगामा
— पूर्व विधायक रतन देवासी पिछले चुनाव में भारी मतों से हारे, अब भी पर्यवेक्षक के दौरे के दौरान खुलकर विरोध।
— अभी भी भारी पड़ रहे देवासी 
— रानीवाड़ा से कांग्रेस से टिकट के कई दावेदार, जमकर फूट

भीनमाल विधानसभा :
— पर्यवेक्षक के दौरे के दौरान समरजीत सिंह ने एक कार्यकर्ता को जूते मारने का कहने पर हंगामा, विरोध।
— जिलाध्यक्ष समरजीत सिंह टिकट की दौड़ में, लेकिन पूर्व प्रत्याशी ऊमसिंह चांदराई भी टिकट की दौड़।
— भोमिया और राजपूत समाज के दो फाड़, कांग्रेस का निकलना मुश्किल।
— पिछले चुनावों में समरजीत सिंह पर भाजपा में वोट दिलवाने के भी आरोप।

जालोर विधानसभा :
— पूर्व विधायक रामलाल मेघवाल टिकट की दौड़ में, लेकिन पूर्व जिला प्रमुख मंजू मेघवाल सहित कई टिकट के दावेदार।
— आपसी फूट में पहले भी हारी कांग्रेस।

आहोर विधानसभा :
— पूर्व प्रत्याशी सवाराम पटेल टिकट की दौड़ में, लेकिन पूर्व विधायक भगराज का पुत्र भी दौड़ में।

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in

loading...

-------Advertisement--------



-------Advertisement--------

24874