'हक मांगने पर किसानों को खानी पड़ती है पुलिस की लाठी-गोली'

Published Date 2018/06/13 07:45, Written by- Ravish Tailor

टोंक। किसान अब किसी पार्टी प्रतिनिधि की बजाय किसान प्रतिनिधि को चुनेंगे। यह कहना है कि किसान महापंचायत के राष्ट्रीय अध्यक्ष रामपाल जाट का है, जिन्होनें 2005 में सोयला गोलीकांड के दौरान मारे गए किसानों को लेकर जिला मुख्यालय पर किसान महापंचायत में यह बात कही। उन्होंने कहा कि किसानों को अपना हक मांगने पर पुलिस की लाठियां व गोली खानी पड़ती है। 

जिला मुख्यालय पर खेल स्टेडियम के पास किसान नेता एवं जिलेभर से आए किसान आज यहां इसलिए जमा हुए, क्योंकि 2005 में सोयला गोलीकांड में मारे गए किसानों को आज तक न तो न्याय मिल पाया है और न ही उनकी बीसलपुर बांध के ओवरफ्लो पानी को टोरडीसागर में डालने की मांग पूरी हो पाई है। प्रदेशभर से जुटे किसान नेताओं व जिलेभर से आए किसानों ने सोयला गोलीकांड में मारे गए पांच किसानों व एक महिला मरणोपरांत श्रद्धांजलि दी। 

सोयला गोलीकांड की 13वीं बरसी पर आयोजित श्रद्धांजलि सभा में किसानों पर दमनात्मक नीति पर राज्य सरकार को खूब कोसा। वहीं आजादी के 70 सालों बाद भी टोंक को रेल से नही जोड़े जाने का दुर्भाग्यपूर्ण बताया। साथ ही बीसलपुर बांध होते हुए भी ईसरदा बांध बनाने को लेकर भी किसान नेताओं को रूख सरकार के खिलाफ नजर आया और वह राज्य सरकार के विरूद्ध बडा आंदोलन करने की चेतावनी देते नजर आए।

दरअसल, आज से ठीक 13 साल पहले 13 जून को सोयला में सिंचाई के पानी की मांग कर रहे किसानों के बढ़ते आंदोलन को दमनात्मक नीति के तहत गोली बरसाई गई थी। उस समय आंदोलनं के मुख्य सुत्रधारों मे रहे बीसलपुर किसान संघर्ष समिति के अध्यक्ष मोहम्मद जाकिर हुसैन ने जहां मंच से राज्य सरकार की किसानों प्रतिनिधियों को कोसा। 

वहीं मीडिया से बात करते हुए कहा कि इस हाल ही दो माह पूर्व बीसलपुर बांध का पानी टोरडीसागर मे डालने की घोषणा की गई कि थी, लेकिन उसको लेकर अब तक कोई कदम आगे नही बढ़ाया गया है। ऐसे में किसान खुद को ठगा सा महसूस कर रहा है। दो माह के बाद चुनाव की आंचार संहिता लागू हो जाएगी तो राज्य सरकार को चुनाव के बहाना मिल जाएगा।

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in


loading...

-------Advertisement--------



-------Advertisement--------